--Advertisement--

बचपन से लेकर होती रही अपमानित, निराश लड़की ने ऐसी बदली लाइफ

चेहरे से हुई बर्बादी पर ये है जिंदगी की जीत की स्टोरी। दरअसल ये कहानी है ऐसी लड़की की जो रेयर डिसऑर्डर के साथ जन्मी थी।

Danik Bhaskar | Dec 20, 2017, 10:29 AM IST
चेहरे से हुई बर्बादी पर ये है जिंदगी की जीत की स्टोरी। दरअसल ये कहानी है ऐसी लड़की की जो रेयर डिसऑर्डर के साथ जन्मी थी। ये सिंथिया मर्फी सिंथिया ट्रीचर कॉलिन्स नाम के सिन्ड्रोम से पीड़ित थी। ये बीमारी इतनी खतरनाक होती है कि इस क्रैनोफेशियल डिसऑर्डर से आंखें और चेहरा बुरी तरह विकृत हो जाता है। ये बीमारी 50 हजार में से एक व्यक्ति को होती है। 32 साल की सिंथिया कैलिफोर्निया में रहती है, लेकिन उसकी जिंदगी की कहानी बेहद दर्दनाक है। उसे जितना इस रेयर बीमारी ने परेशान किया, उससे कहीं कम इस दुनिया के लोगों ने दर्द नहीं दिया। जब वह स्कूल में पढ़ रही थी, तब से लेकर कॉलेज तक बुलिंग का शिकार होती रही। स्कूल, कॉलेज से लेकर रास्ते तक में सिथिंया को कोई भद्दी गालियां देता था, तो कोई करता मारपीट करता था। पेरेंट्स ने अपनी लड़की का चेहरा ठीक रखने के लिए कई सर्जरी कराई, लेकिन इससे कोई ज्यादा फायदा नहीं हो सका। सिंथिया बताती है कि इस बीमारी ने लगभग उसकी जिंदगी खत्म ही कर दी थी। लेकिन 16 सर्जरी के बाद जब उसका चेहरा कुछ ठीक हुआ। इसमें उसके जबड़े का रिप्लेसमेंट भी कराया गया था। इसके बाद सिंथिया का आत्मविश्वास लौटा। इसके बाद उसकी जिंदगी में रौनक आने लगी। अब वह लौटे आत्मविश्वास के साथ कैलिफोर्निया की एक कोर्ट में एडवोकेट के तौर पर प्रैक्टिस कर रही है। इसके बाद वह जिंदगी खुशहाल होने की बात कह रही है। यहां सिंथिया की ऐसी स्टोरी दूसरों के लिए बड़ी प्रेरणा है, जो छोटी-छोटी तकलीफों से घबरा जाते हैं और निराश होकर जिंदगी से भागने लगते हैं। सिंथिया एडवोकेट के तौर पर आत्मसम्मान के साथ जिंदगी जीने का बड़ा उदाहरण बन गई है। देखें दैनिक भास्कर डॉटकॉम पर ये वीडियो।