Hindi News »Khabre Zara Hat Ke »Do You Know» Interesting Story Behind The Blade Special Design

ब्लेड के बीच क्यों बनाते हैं खास डिजाइन, ये है वजह

ब्लेड बनाने की शुरुआत किंग कैंप जिलेट ने की थी।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jan 30, 2018, 01:27 PM IST

  • ब्लेड के बीच क्यों बनाते हैं खास डिजाइन, ये है वजह
    +1और स्लाइड देखें

    हटके डेस्क. शेविंग करने से लेकर हेयर कटिंग तक में ब्लेड का इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन क्या कभी सोचा है कि आखिर ब्लेड को एक खास डिजाइन में ही क्यों बनाया जाता है। ब्लेड बनाने की इतनी कंपनियां हैं लेकिन किसी ने इसके डिजाइन में बदलाव क्यों नहीं है। दरअसल इसके पीछे की वजह है जिलेट कंपनी, जिसने ब्लेड बनाने की शुरुआत की थी। कैसे डिजाइन हुआ ब्लेड...

    'किंग कैंप जिलेट' ने की शुरुआत
    जिलेट कंपनी के संस्थापक किंग कैंप जिलेट ने 1901 में अपने सहयोगी विलियम निकर्सन के साथ मिलकर ब्लेड डिजाइन किया। उस वक्त ब्लेड का वैसा ही डिजाइन था जैसा कि आज हम देखते हैं। किंग कैंप जिलेट ने डिजाइन बनाने के बाद उसे पेटेंट करा लिया और साल 1904 में उसका उत्पादन शुरू कर दिया।

    क्यों है ब्लेड की खास डिजाइन
    1901 में जिलेट ही इकलौती कंपनी थी जिसने रेजर और ब्लेड बनाने की शुरुआत की। उस वक्त रेजर में ब्लेड बोल्ट के जरिए फिट करना पड़ता था। इसलिए ब्लेड के बीच में खास तरह की डिजाइन बनाई गई। सबसे पहले जिलेट ने ब्लू जिलेट नाम से ब्लेड का उत्पादन किया। 1904 में पहली बार 165 ब्लेड बनाए गए। बाद में ब्लेड बनाने की दूसरी कंपनियां भी आईं लेकिन उन्होंने ब्लेड की पुरानी डिजाइन को ही कॉपी किया, क्योंकि कंपनियों के सामने दिक्कत ये थी कि उस वक्त रेजर जिलेट कंपनी के ही आते थे इसलिए रेजर में ब्लेड फिट करने के लिए शेव उसी डिजाइन में रखना पड़ाता था।


    कैसे आया ब्लेड बनाने का आईडिया
    1890 में जिलेट कंपनी के संस्थापक किंग कैंप जिलेट बोतल का ढक्कर बनाने वाली कंपनी में सेल्समैन का काम करते थे। नौकरी के दौरान उन्होंने देखा कि लोग इस्तेमाल के बाद बोतलों के ढक्कन फेंक देते है। फिर भी ऐसी छोटी सी चीज से इतनी बड़ी कंपनी चल रही है। ऐसे में उन्होंने भी कुछ ऐसी ही चीज बनाने की सोची, जो लोगों के लिए सस्ता हो और यूज के बाद फेंक दें। उस दौर में लोग उस्तरे से शेविंग किया करते थे। लेकिन उस्तरे से सेविंग करना काफी खतरनाक होता था साथ ही इसमें काफी वक्त लगता था। किंग कैंप ने उस्तरे का एक विकल्प तलाशने की कोशिश की और दो धार वाली सेफ्टी रेजर बनाया। साल 1901 के दिसंबर महीने में उन्होंने इसकी डिजाइन को पेटेंट करा लिया।

  • ब्लेड के बीच क्यों बनाते हैं खास डिजाइन, ये है वजह
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Do You Know

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×