Hindi News »Khabre Zara Hat Ke »Weird World» Mother Tried To Kill Her Baby By Feeding Her Excess Of Salt In England

जबरन नमक खिलाकर बच्चों की जान ले रही हैं मां

आजकल ऐसे मामले काफी देखने में आ रहे हैं जिनमें जरुरत से ज्यादा नमक खिलाकर बच्चों को मारा जा रहा है।

Dainikbhaskar.com | Last Modified - Mar 09, 2018, 01:16 PM IST

जबरन नमक खिलाकर बच्चों की जान ले रही हैं मां

आप यकीन न कर पाएं लेकिन ये सच है कि आजकल ऐसे मामले काफी देखने में आ रहे हैं जिनमें जरुरत से ज्यादा नमक खिलाकर बच्चों को मारा जा रहा है। पिछले साल अगस्त में भी एक मामला सामने आया था जिसमें देखा गया था कि अमेरिका के साउथ कैरोलिना में एक महिला किंबर्ली मार्टिन ने जानबूझकर अपनी दूधमुंही बच्ची को ज्यादा नमक खिलाकर उसकी जान ले ली थी।अब ऐसा ही कुछ इंग्लैंड में भी हुआ है। 18 महीने की बच्ची को मारने की मां ने रची थी साजिश

एक ब्रिटिश महिला को पुलिस ने इन आरोपों के साथ गिरफ्तार किया है कि उसने जबरन अपनी बच्ची को नमक खिलाकर जान से मारने की कोशिश की।मामले का खुलासा तब हुआ जब 18 महीने की बच्ची की दादी ने बहू की इस हरकत को देख मेडिकल ऑफिसर को फोन कर दिया। जैसे ही मेडिकल टीम आई,उन्होंने बच्ची को बेहोशी की हालत में पाया।उसका शरीर भी पीला पड़ चुका था। वह तुरंत उसे अस्पताल ले गए जहां जांच में ये पाया गया कि उसने 21 से 24 ग्राम नमक खाया था। यह मात्रा इतनी छोटी उम्र के बच्चे के लिए हर दिन के हिसाब से 12 गुना ज्यादा थी। डॉक्टरों ने कहा कि ये चमत्कार ही है कि बच्ची की जान बच गई।

डॉक्टरों ने बच्ची की मां पर ज्यादा नमक खिलाने का शक जताया जो कि पुलिस जांच के बाद साबित भी हो गया। दरअसल,बच्ची की मां ने उसे खतरनाक मात्रा में नमक खिलाने के बाद अपने दोस्तों को फोन कर ये कहा कि बच्ची बेहोश है और उसके होंठ सफ़ेद पड़ चुके हैं । जब उससे ये खुलासा हुआ कि उसने नमक खा लिया है तो महिला इस बात पर कोई तर्क नहीं दे सकी कि ऐसा कैसे हुआ और फंस गई। उसने ये भी कुबूला कि गूगल पर उसने ये सर्च किया था कि 18 महीने की बच्ची के हिसाब से कितना नमक खिलाया जाना सेफ होता है। अगर मेडिकल टीम एयर एम्बुलेंस से बच्ची को अस्पताल नहीं ले जाती तो उसकी जान जा सकती थी। आरोपी महिला के खिलाफ हत्या और बाल शोषण के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। कानून के हिसाब से आरोपी महिला को 20 साल के कारावास की सजा हो सकती है।

धीमा जहर है नमक

इस मामले में बच्ची भाग्यशाली थी जो बच गई लेकिन जरुरत से ज्यादा नमक बच्चों की हेल्थ के लिए जानलेवा साबित हो सकता है। दरअसल,एक से दो साल के बच्चों का शरीर इतना परिपक्व नहीं होता कि वह नमक के कैमिकल रिएक्शन को बर्दाश्त कर सके। नमक धीमे जहर की तरह काम करता है। उन्हें बुखार,थकान के साथ-साथ अत्यधिक प्यास लग सकती है,आखें पलट सकती हैं और चेहरा टेढ़ा भी हो सकता है। उनकी किडनी और ब्रेन डैमेज हो सकता है। वह कोमा में जा सकते हैं और उनकी मौत भी हो सकती है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Weird World

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×