--Advertisement--

ये है खूनी आइलैंड, यहां 1000 जापानी सैनिकों की ऐसे हुई थी तड़प-तड़पकर मौत

इस आइलैंड पर इतनी बड़ी घटना घटी कि इसका नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हो गया।

Danik Bhaskar | Jan 08, 2018, 12:53 PM IST
कहते हैँ जब बुरा वक्त आता है तो बताकर नहीं आता है। ऐसा ही कुछ हुआ था उन 1000 जापानी सैनिकों के साथ, जब वे मगरमच्छों के शिकार बन गए। ये खतरनाक जगह थी रामरी आइलैंड। आखिर क्या हुआ था उस समय जब हथियारबंद 1000 जापानी सैनिक मारे गए। आइए जानते हैं खूनी रामरी आइलैंड के बारे में। म्यांमार के तट पर स्थित रामरी आइलैंड। ये जितना दिखने में खतरनाक लगता है, असल में भी उतना ही खतरना है। इस आइलैंड पर इतनी बड़ी घटना घटी कि इसका नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में एक ऐसी जगह के नाम पर दर्ज हुआ, जहां जानवरों ने इंसानों को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाया है। दूसरे विश्व युद्ध में जापान ने रामरी आइलैंड पर अपना कब्जा जमा रखा था। शायद यही उन लोगों की सबसे बड़ी गलती थी। 26 जनवरी 1945 को ब्रिटिश सैनिकों ने रामरी आइलैंड पर कब्जा करने के लिए हमला बोल दिया। ब्रिटिश सैनिकों की संख्या अधिक होने से जापानी सैनिक उनका अधिक देर तक मुकाबला नहीं कर सके। काफी जापानी सैनिक मारे गए और बचे हुए लगभग 1000 सैनिक आइलैंड के इंटीरियर इलाके की ओर चले गए। उन्हें ये पता नहीं था कि ये एक दलदली इलाका है और वहां खतरनाक मगरमच्छों का राज है। वीडियो में आगे जानिए कैसे 1000 जापानी सैनिक इन मगरमच्छों का शिकार बन गए