Hindi News »Khabre Zara Hat Ke »Do You Know» He Was The Real Hero Of Titanic, Saved The Lives Till Last Moment

कप्तान नहीं, टाइटैनिक बनाने वाला था इसका असली हीरो, लोगों को बचाने के लिए दी थी जान

आप शायद ही जानते हों कि इसे बनाने वाले शख्स थॉमस एंड्रयू ने आखिरी वक्त तक लोगों को बचाने में अपनी जान गंवा दी थी।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Feb 09, 2018, 12:00 AM IST

  • कप्तान नहीं, टाइटैनिक बनाने वाला था इसका असली हीरो, लोगों को बचाने के लिए दी थी जान
    +10और स्लाइड देखें
    इस शिप को डिजाइन करने वाले थॉमस एंड्रयू।

    समुद्री इतिहास की सबसे भीषण टाइटैनिक दुर्घटना में 1,517 लोग मारे गए थे। इस शिप के कप्तान एडवर्ड जॉन स्मिथ तो इस शिप के साथ ही डूब गए थे, लेकिन आप शायद ही जानते हों कि इसे बनाने वाले शख्स थॉमस एंड्रयू ने आखिरी वक्त तक लोगों को बचाने में अपनी जान गंवा दी थी। आज हम आपको बता रहे हैं टाइटैनिक से जुड़की कुछ अनसुनी कहानियां। एंड्रयू थे असली हीरो...

    - इस विशालकाय शिप को बनाने वाले थॉमस एंड्रयू को टाइटैनिक का असली हीरो माना जाता है। 7 फरवरी 1873 को जन्में एंड्रयू बिजनेसमैन होने के साथ-साथ शिपमेकर भी थे। थॉमस ने ही टाइटैनिक को डिजाइन किया था। 15 अप्रेल 1912 की रात जब टाइटैनिक आइसबर्ग से टकराया तभी एंड्रयू समझ गए थे कि अब जहाज नहीं बचेगा। लेकिन उन्होंने खुद को बचाने की जगह लोगों की मदद करना शुरू कर दी।

    आखिरी समय तक रहे शिप में
    - आईबसर्ग से टकराने के बाद एंड्रयू ने सारे गेस्ट्स के कमरों में जाकर उन्हें जगाना शुरू किया और लाइफ बोट पर जाने को कहा, वे ज्यादा से ज्यादा लोगों को बचाना चाहते थे। कप्तान जॉन स्मिथ के अलावा एंड्रयू भी शिप के डूबने तक उसी में सवार रहे है और शिप के साथ अपनी जान गंवा दी।

    15 मिनट नहीं 3 घंटे में डूबा था जहाज
    - अपने समय के इस सबसे बड़े जहाजके बारे में दावा किया गया था कि वह कभी डूब नहीं सकता। लेकिन बाद में हुआ ये कि शिप 15 अप्रेल 1912 को एक आइसबर्ग से टकराकर डूब गया था। इसे लेकर ऐसी भी बातें थी कि ये सिर्फ 15 मिनट में डूब गया था जो पूरी तरह गलत है। इसे डूबने में 3 घंटे का समय लगा था।

    इतनी गहराई पर मिला था टाइटैनिक
    - कई सालों बाद जब अटलांटिक महासागर में खोज की गई तो ये भीमकाय जहाज समुद्र में 12 हजार फीट की गहराई में मिला। इसके अवशेषों को राबर्ट बेलार्ड ने खोजा था। सालों बाद इस शिप की दर्दनाक स्टोरी 1997 में आई टाइटैनिक मूवी में नजर आई।

    बच सकता था टाइटैनिक

    - आइसबर्ग जब नजर आया, उससे मात्र 30 सेकंड पहले दिख गया होता, तो जहाज की दिशा बदली जा सकती थी और तब शायद समुद्री इतिहास की यह भीषणतम दुर्घटना नहीं हुई होती।

    एक चिमनी थी नकली

    टाइटैनिक शिप में भाप निकलने के लिए 4 स्मोकस्टेक्स लगे हुए थे। ये टाइटैनिक की तस्वीरों का अभिन्न हिस्सा रहे हैं। लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी कि उनमें से एक स्मोकस्टेक महज डेकोरेटिव पीस था, वह काम नहीं करता था। उसे सजावट के लिए लगाया गया था।

    आगे की स्लाइड्स में जानें, टाइटैनिक से जुड़ी कुछ और रोचक बातें...

  • कप्तान नहीं, टाइटैनिक बनाने वाला था इसका असली हीरो, लोगों को बचाने के लिए दी थी जान
    +10और स्लाइड देखें
    कई लोगों का मानना है कि सिर्फ 15 मिनट में टाइटैनिक जहाज पानी की सतह से नीचे तल में चला गया था।
  • कप्तान नहीं, टाइटैनिक बनाने वाला था इसका असली हीरो, लोगों को बचाने के लिए दी थी जान
    +10और स्लाइड देखें
    अपने समय का सबसे बड़ा यातायात का साधन था टाइटैनिक।
  • कप्तान नहीं, टाइटैनिक बनाने वाला था इसका असली हीरो, लोगों को बचाने के लिए दी थी जान
    +10और स्लाइड देखें
    इस शिप को चलाने के लिए रोजाना 600 टन कोयले की जरूरत थी, इसलिए इस जहाज पर 6000 टन कोयला लादा गया था। यहां काम करने वाले फायरमेन बड़ी गर्मी और गंदे माहौल में रहते थे।
  • कप्तान नहीं, टाइटैनिक बनाने वाला था इसका असली हीरो, लोगों को बचाने के लिए दी थी जान
    +10और स्लाइड देखें
    शिप पर कोई दूरबीन नहीं लगी थी जिससे दूर की चीजों को देखा जा सके। यदि वह होती तो ये दुर्घटना टाली जा सकती थी।
  • कप्तान नहीं, टाइटैनिक बनाने वाला था इसका असली हीरो, लोगों को बचाने के लिए दी थी जान
    +10और स्लाइड देखें
    टाइटैनिक पर 14 बेलब्वाॅयज थे जिनका काम पैसेंजर्स का लगेज ढोना और अन्य टास्क पूरा करना था। ये सारे बेलब्वॉयज मारे गए थे।
  • कप्तान नहीं, टाइटैनिक बनाने वाला था इसका असली हीरो, लोगों को बचाने के लिए दी थी जान
    +10और स्लाइड देखें
    शिप में 109 बच्चे सवार थे जिनमें से 53 की मौत हो गई।
  • कप्तान नहीं, टाइटैनिक बनाने वाला था इसका असली हीरो, लोगों को बचाने के लिए दी थी जान
    +10और स्लाइड देखें
    885 ऑफिसर और क्रू मेंबर्स में से सिर्फ 23 महिलाएं थी।
  • कप्तान नहीं, टाइटैनिक बनाने वाला था इसका असली हीरो, लोगों को बचाने के लिए दी थी जान
    +10और स्लाइड देखें
    इस शिप पर सबसे धनी आदमी था जॉन जेकब एस्टर IV जिसकी नेटवर्थ थी 85 मिलियन डॉलर जो अाज के 2 बिलियन डॉलर के बराबर हैं। वह अपनी प्रेग्नेंट पत्नी के साथ सफर में था। अपनी पत्नी को लाइफबोट में हेल्प करने के दौरान इनकी मौत हुई।
  • कप्तान नहीं, टाइटैनिक बनाने वाला था इसका असली हीरो, लोगों को बचाने के लिए दी थी जान
    +10और स्लाइड देखें
    टाइटैनिक जहाज के कैप्टन थे Edward J. Smith। वे इस यात्रा के बाद रिटायरमेंट लेने वाले थे।
  • कप्तान नहीं, टाइटैनिक बनाने वाला था इसका असली हीरो, लोगों को बचाने के लिए दी थी जान
    +10और स्लाइड देखें
    कई फेमस व्यक्तियों ने इस जहाज का टिकट खरीदा था लेकिन वह इसमें सवार नहीं हुए है। इन्हीं में से एक जे पी मॉर्गन थे।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Do You Know

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×