--Advertisement--

ड्राइविंग लाइसेंस के लिए गाईनेकोलॉजिस्ट से चेकअप जरूरी, इतने अजीब है इन देशों के कानून

यूरोपीय देश लूथियाना में महिलाओं को ड्राइविंग लाइसेंस पाने के लिए पहले गाइनेकोलॉजिस्ट के पासा जाना होता था।

Danik Bhaskar | Mar 31, 2018, 11:22 AM IST

ड्राइविंग लाइसेंस पाने के लिए हमें कई तरह के टेस्ट से गुजरना होता है। हर देश में ड्राइविंग लाइसेंस के लिए अलग-अलग कानून होते हैं। जैसे रिटन टेस्ट, ओरल टेस्ट, ड्राइविंग एबिलिटी, पर अगर हम कहें कि एक ऐसा देश है जहां महिलाओं को ड्राइविंग लाइसेंस पाने के लिए गाईनेकोलॉजिस्ट से चेकअप जरूरी है तो? यकीन नहीं होता न पर ये सच है। यहां होता था ऐसा...

- यूरोपीय देश लूथियाना में महिलाओं को ड्राइविंग लाइसेंस पाने के लिए पहले गाइनेकोलॉजिस्ट के पासा जाना होता था। यहां वे अपना चेकअप कराती थीं और उन्हें अगर डॉक्टर से क्लीन चिट मिल जाती थी, तभी वे ड्राइविंग लाइसेंस के लिए अप्लाई कर पाती थीं।

क्यों बना था ये कानून

- 2002 तक ये विवादित कानून लूथियाना में लागू रहा। इस कानून बनाने के पीछे मकसद ये था कि लाइसेंस पाने वाली महिलाएं किसी बीमारी का शिकार न हों। ऐसा मानना था कि बीमार महिलाएं ठीक से कार नहीं चला पाती हैं। वहीं पुरुषों पर ये कानून लागू नहीं होता।

भेदभाव की वजह से हटा दिया गया कानून

- लंबे समय तक इस विवादित कानून का विरोध हुआ। लोगों का मानना था कि ये स्त्री-पुरुष में भेदभाव करता है, जिसके बाद इस कानून को हटा दिया गया।

आगे की स्लाइड्स में देखें, ड्राइविंग लाइसेंस से जुड़े अजीबोगरीब कानून...

ब्राजील में कार हाईजैकिंग के बढ़ते मामलों के बाद ये कानून बनाया गया था। ब्राजील में कार हाईजैकिंग के बढ़ते मामलों के बाद ये कानून बनाया गया था।
यहां सरकार का मानना है कि रोड एक्सीडेंट के दौरान ये आपके या दूसरों के काम आ सकता है। इसलिए फर्स्ट ऐड कोर्स यहां अनिवार्य है। यहां सरकार का मानना है कि रोड एक्सीडेंट के दौरान ये आपके या दूसरों के काम आ सकता है। इसलिए फर्स्ट ऐड कोर्स यहां अनिवार्य है।