--Advertisement--

अजीब परंपराएं: कहीं मंदिर में चढ़ता है डोसा, कहीं गुरुदारे में चढ़ाए जाते हैं हवाई जहाज

आज हम आपको बताने जा रहे देश के कुछ ऐसे ही मंदिर और गुरुद्वारे के बारे में जो अपने अलग-अलग तरह के प्रसाद को लेकर काफी चर्

Dainik Bhaskar

Mar 02, 2018, 12:00 AM IST
हवाई जहाज वाला गुरुद्वारा। हवाई जहाज वाला गुरुद्वारा।

भारत में देवी-देवताओं के लाखों मंदिर और सिखों के गुरुद्वारे हैं। इन मंदिर-गुरुद्वारों में करोड़ों लोग अपने अराध्‍य को तरह-तरह के भोग और प्रसाद चढाते हैं, जहां सबकी मान्‍यताएं और परंपराएं भी अलग-अलग हैं। आज हम आपको बताने जा रहे देश के कुछ ऐसे ही मंदिर और गुरुद्वारे के बारे में जो अपने अलग-अलग तरह के प्रसाद को लेकर काफी चर्चा में बने रहते हैं। इन मंदिरों में चढ़ावे और प्रसाद में हवाईजहाज से लेकर डोसा तक अर्पित किया जाता है। यहां अर्पित किया जाता है हवाई जहाज...

- शहीद बाबा निहाल सिंह का गुरुद्वारा जालंधर में स्थित हैं। इस गुरुद्वारे में कोई खाने वाला प्रसाद नही चढ़ाया जाता बल्कि प्रसाद के तौर पर खिलौने वाले हवाई जहाज को चढ़ावे के तौर पर इस्तेमाल करते हैं, इसलिए इस गुरुद्वारे को हवाई जहाज गुरुद्वारे के नाम से भी जाना जाता है।

आगे की स्लाइड्स में जानें, ऐसे ही कुछ मंदिरों के बारे में...

कामाख्या देवी मंदिर कामाख्या देवी मंदिर

कामाख्या देवी का मंदिर असम के गुवाहाटी में स्थित हैं। इस मंदिर का नाम देश-विदेश तक फैला हुआ हैं। इस मंदिर की विशेषता हैं कि श्रद्धालुओं को प्रसाद के तौर पर यहां मंदिर में देवी के रज की मौजूदगी वाले कपड़ों को बांटा जाता है। इस मंदिर को जून माह में अंबुबाची मेले से पहले तीन दिनों तक बंद भी रखा जाता हैं। मेले के चौथे दिन भक्‍तों को देवी के दर्शन करवाए जाते हैं।

अलागर मंदिर अलागर मंदिर

भगवान विष्णु का ये मंदिर मदुरई में स्थित है। इस मंदिर के दर्शन करने दूर-दूर से यात्री आते हैं। यहां भक्‍तगण भगवान विष्‍णु को डोसे का भोग लगाते हैं। 

X
हवाई जहाज वाला गुरुद्वारा।हवाई जहाज वाला गुरुद्वारा।
कामाख्या देवी मंदिरकामाख्या देवी मंदिर
अलागर मंदिरअलागर मंदिर
Astrology

Recommended

Click to listen..