--Advertisement--

वर्जिनिटी से जुड़ी है इस देश में महिलाओं की ड्राइविंग पर पाबंदी, ऐसे मिला हक

पुरुषों की तरह महिलाओं की ड्राइविंग भी अब आम है। लेकिन सउदी अरब एक ऐसा देश है जहां सदियों से महिलाओं की ड्राइविंग पर पाब

Dainik Bhaskar

Dec 19, 2017, 10:13 AM IST
सारी दुूनिया में महिलाओं ने सऊ सारी दुूनिया में महिलाओं ने सऊ

पुरुषों की तरह महिलाओं की ड्राइविंग भी अब आम है। लेकिन सऊदी अरब एक ऐसा देश है जहां सदियों से महिलाओं की ड्राइविंग पर पाबंदी थी। वहां महिलाओं की ड्राइविंग को वर्जिनिटी से जोड़कर देखा जाता था। ये माना जाता था कि ड्राइविंग करने से महिलाएं पुरुषों के संपर्क में आएंगी और उनकी वर्जिनिटी खत्म हो जाएगी।

महिलाओं ने किया इस कानून का विरोध

पहली बार 6 नवंबर 1990 को 47 महिलाओं ने सार्वजनिक रूप से इस कानून का विरोध किया जिन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। 2011 में ड्राइविंग के खिलाफ एक अभियान चला जिसे वीमेन टू ड्राइव मूवमेंट कहा गया। इस अभियान के तहत दर्जनों महिलाओं ने गाड़ी चलाते हुए अपना वाीडियो बनाया और उसे सोशल मीडिया पर शेयर किया।

महिलाओं को ऐसे मिला ड्राइविंग का हक

सऊदी अरब की सोशल एक्टिविस्ट लुजैन अल हथलौल और मायसा अल अमौदी को 1 दिसंबर 2014 में कार चलाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया। इसके बाद अंतराष्ट्रीय मानवाधिकार संस्था, एमनेस्टी इंटरनेशनल और दुनिया के अन्य मानवाधिकार संगठनों ने सऊदी अरब की कड़ी आलोचना की। आखिरकार 73 दिनों की कैद के बाद इन दोनों सामाजिक कार्यकर्ताओं को रिहा कर दिया गया। फिर सऊदी अरब के शाह सलमान बिन अब्दुल अजीज अल सऊद ने एक शाही फरमान जारी करते हुए महिलाओं को ड्राइविंग की इजाजत दी।

आगे की स्लाइड्स में देखिए महिलाओं की ड्राइविंग पर पाबंदी का विरोध करती हुई सऊदी अरब की महिलाओं के फोटोज...

X
सारी दुूनिया में महिलाओं ने सऊसारी दुूनिया में महिलाओं ने सऊ
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..