Hindi News »Khabre Zara Hat Ke »Do You Know» Biggest Market Of Old Clothes In Delhi Run By Women At Midnight| पुराने कपड़ों का सबसे बड़ा बाजार

आधी रात में महिलाएं लगाती हैं ये बाजार, टोर्च जलाकर यूं खरीदते हैं सामान

दिल्ली का ये मशहूर मार्केट सुबह के चार बजे से दिन के ग्यारह बजे तक लगता है।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Nov 05, 2017, 06:21 PM IST

  • आधी रात में महिलाएं लगाती हैं ये बाजार, टोर्च जलाकर यूं खरीदते हैं सामान
    +6और स्लाइड देखें
    यहां सड़कों पर ही रात गुजारती हैं महिलाएं
    दिल्ली में वैसे तो कई मार्केट हैं, लेकिन आज हम आपको जिस मार्केट के बारे में बताने जा रहे हैं, वहां महिलाएं शाम से लेकर रात के चार बजे तक रास्ते में बैठकर अपनी दुकान सजाने को बैठी रहती हैं। सुबह के चार बजे से शुरू होने वाले इस बाजार की खासियत ये है कि इसमें लगने वाले हजारों दुकानों में 70 से 80 प्रतिशत विक्रेता महिलाएं होती हैं। टॉर्च जला सामान खरीदते हैं लोग...
    पश्चिमी दिल्ली के रघुबीर नगर में लगता है पुराने कपड़ों का बाजार। करीब पांच एकड़ जमीन में फैले इस बाजार को उत्तर भारत का सबसे बड़ा पुराने कपड़ों का मार्केट माना जाता है। ये मार्केट सुबह चार बजे शुरू होता है और सुबह के ग्यारह बजे तक खुला रहता है। इस मार्केट के ज्यादातर दुकानदार गुजरात के वाघरी समाज के हैं, जो काम की तलाश में गुजरात से दिल्ली आए थे। इस मार्केट में करीब पांच हजार से ज्यादा दुकानें लगती हैं, जिनमें ज्यादातर में महिलाएं ही बैठ कर सामान बेचती नजर आती हैं। चूंकि रात के अंधेरे में लोग सामान खरीदने आते हैं, इस कारण ज्यादातर लोग टॉर्च साथ लाते हैं, ताकि अच्छे सामान खरीद सकें।
    कहां से आता है पुराना कपड़ा?
    कई लोगों के मन में सवाल उठता है कि ये दुकानदार पुराने कपड़े लाते कहां से हैं? दरअसल, यहां मार्केट रात के समय में लगता है। इस कारण दिन में महिलाएं दिल्ली के कई इलाकों में फेरी लगाकर पुराने कपड़ों के बदले नए बर्तन बेचती हैं। वहां से जमा किए कपड़ों में सुधार कर उन्हें ही रात में कम दाम में बेचा जाता है। इस बाजार में काफी सस्ते दामों में सामान बेचे जाते हैं, जिस कारण यहां लोगों की अच्छी-खासी भीड़ देखी जाती है। यहां आपको 50 से 100 रुपयों में जूते, 10 से 30 रुपए में कमीज, 10 से 50 रुपए में पैंट, 20-30 रुपए में जींस, 10-50 रुपए में लेडीज टॉप और 20-40 रुपए में साड़ी मिल जाएगी।
    12 बजे से जुटते हैं दुकानदार
    वैसे तो मार्केट सुबह चार बजे से खुलता है लेकिन दुकानदार अच्छी जगह लेने के लिए रात एक 12 बजे से ही यहां जमा होने लगते हैं। सभी साड़ियों के जरिए अपनी जगह बुक करते हैं। इस मार्केट से सामान खरीदने दिल्ली के अलावा जयपुर, अलवर, फरीदाबाद, मेरठ, मथुरा, सिरसा, हिसार, चंडीगढ़, लुधियाना, पटियाला यानी राजस्थान, यूपी, हरियाणा, पंजाब और गुजरात के तमाम शहरों और कस्बों से लोग आते हैं।
    कई व्यापारी भी आते हैं सामान खरीदने
    इस बाजार में सिर्फ आम लोग ही नहीं, बल्कि कई व्यापारी भी सामान खरीदने आते अहिं। वो यहां से सामान खरीद उसकी मरम्मत कर ऊंचे दामों में बेचते हैं। यहां आने वाले ज्यादातर लोग साथ टॉर्च रखते हैं, ताकि अच्छे से देख पाएं कि सामान में ज्यादा डिफेक्ट तो नहीं?
    आगे देखें इस मार्केट की अन्य फोटोज...
  • आधी रात में महिलाएं लगाती हैं ये बाजार, टोर्च जलाकर यूं खरीदते हैं सामान
    +6और स्लाइड देखें
    हर रात जुटते हैं लाखों लोग
  • आधी रात में महिलाएं लगाती हैं ये बाजार, टोर्च जलाकर यूं खरीदते हैं सामान
    +6और स्लाइड देखें
    शाम से ही आने लगते हैं दुकानदार
  • आधी रात में महिलाएं लगाती हैं ये बाजार, टोर्च जलाकर यूं खरीदते हैं सामान
    +6और स्लाइड देखें
    साड़ियों से ऐसे बुक करते हैं अपनी जगह
  • आधी रात में महिलाएं लगाती हैं ये बाजार, टोर्च जलाकर यूं खरीदते हैं सामान
    +6और स्लाइड देखें
    ज्यादातर दूकानों पर बैठती हैं महिलाएं
  • आधी रात में महिलाएं लगाती हैं ये बाजार, टोर्च जलाकर यूं खरीदते हैं सामान
    +6और स्लाइड देखें
    पुराने कपड़े और जूते बेचती हैं ये महिलाएं
  • आधी रात में महिलाएं लगाती हैं ये बाजार, टोर्च जलाकर यूं खरीदते हैं सामान
    +6और स्लाइड देखें
    अपने परिवार के साथ चलाती हैं ये दूकानें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Do You Know

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×