क्या आपको पता है?

--Advertisement--

आधी रात में महिलाएं लगाती हैं ये बाजार, टोर्च जलाकर यूं खरीदते हैं सामान

दिल्ली का ये मशहूर मार्केट सुबह के चार बजे से दिन के ग्यारह बजे तक लगता है।

Dainik Bhaskar

Nov 05, 2017, 06:21 PM IST
यहां सड़कों पर ही रात गुजारती हैं महिलाएं यहां सड़कों पर ही रात गुजारती हैं महिलाएं
दिल्ली में वैसे तो कई मार्केट हैं, लेकिन आज हम आपको जिस मार्केट के बारे में बताने जा रहे हैं, वहां महिलाएं शाम से लेकर रात के चार बजे तक रास्ते में बैठकर अपनी दुकान सजाने को बैठी रहती हैं। सुबह के चार बजे से शुरू होने वाले इस बाजार की खासियत ये है कि इसमें लगने वाले हजारों दुकानों में 70 से 80 प्रतिशत विक्रेता महिलाएं होती हैं। टॉर्च जला सामान खरीदते हैं लोग...
पश्चिमी दिल्ली के रघुबीर नगर में लगता है पुराने कपड़ों का बाजार। करीब पांच एकड़ जमीन में फैले इस बाजार को उत्तर भारत का सबसे बड़ा पुराने कपड़ों का मार्केट माना जाता है। ये मार्केट सुबह चार बजे शुरू होता है और सुबह के ग्यारह बजे तक खुला रहता है। इस मार्केट के ज्यादातर दुकानदार गुजरात के वाघरी समाज के हैं, जो काम की तलाश में गुजरात से दिल्ली आए थे। इस मार्केट में करीब पांच हजार से ज्यादा दुकानें लगती हैं, जिनमें ज्यादातर में महिलाएं ही बैठ कर सामान बेचती नजर आती हैं। चूंकि रात के अंधेरे में लोग सामान खरीदने आते हैं, इस कारण ज्यादातर लोग टॉर्च साथ लाते हैं, ताकि अच्छे सामान खरीद सकें।
कहां से आता है पुराना कपड़ा?
कई लोगों के मन में सवाल उठता है कि ये दुकानदार पुराने कपड़े लाते कहां से हैं? दरअसल, यहां मार्केट रात के समय में लगता है। इस कारण दिन में महिलाएं दिल्ली के कई इलाकों में फेरी लगाकर पुराने कपड़ों के बदले नए बर्तन बेचती हैं। वहां से जमा किए कपड़ों में सुधार कर उन्हें ही रात में कम दाम में बेचा जाता है। इस बाजार में काफी सस्ते दामों में सामान बेचे जाते हैं, जिस कारण यहां लोगों की अच्छी-खासी भीड़ देखी जाती है। यहां आपको 50 से 100 रुपयों में जूते, 10 से 30 रुपए में कमीज, 10 से 50 रुपए में पैंट, 20-30 रुपए में जींस, 10-50 रुपए में लेडीज टॉप और 20-40 रुपए में साड़ी मिल जाएगी।
12 बजे से जुटते हैं दुकानदार
वैसे तो मार्केट सुबह चार बजे से खुलता है लेकिन दुकानदार अच्छी जगह लेने के लिए रात एक 12 बजे से ही यहां जमा होने लगते हैं। सभी साड़ियों के जरिए अपनी जगह बुक करते हैं। इस मार्केट से सामान खरीदने दिल्ली के अलावा जयपुर, अलवर, फरीदाबाद, मेरठ, मथुरा, सिरसा, हिसार, चंडीगढ़, लुधियाना, पटियाला यानी राजस्थान, यूपी, हरियाणा, पंजाब और गुजरात के तमाम शहरों और कस्बों से लोग आते हैं।
कई व्यापारी भी आते हैं सामान खरीदने
इस बाजार में सिर्फ आम लोग ही नहीं, बल्कि कई व्यापारी भी सामान खरीदने आते अहिं। वो यहां से सामान खरीद उसकी मरम्मत कर ऊंचे दामों में बेचते हैं। यहां आने वाले ज्यादातर लोग साथ टॉर्च रखते हैं, ताकि अच्छे से देख पाएं कि सामान में ज्यादा डिफेक्ट तो नहीं?
आगे देखें इस मार्केट की अन्य फोटोज...
हर रात जुटते हैं लाखों लोग हर रात जुटते हैं लाखों लोग
शाम से ही आने लगते हैं दुकानदार शाम से ही आने लगते हैं दुकानदार
साड़ियों से ऐसे बुक करते हैं अपनी जगह साड़ियों से ऐसे बुक करते हैं अपनी जगह
ज्यादातर दूकानों पर बैठती हैं महिलाएं ज्यादातर दूकानों पर बैठती हैं महिलाएं
पुराने कपड़े और जूते बेचती हैं ये महिलाएं पुराने कपड़े और जूते बेचती हैं ये महिलाएं
अपने परिवार के साथ चलाती हैं ये दूकानें अपने परिवार के साथ चलाती हैं ये दूकानें
X
यहां सड़कों पर ही रात गुजारती हैं महिलाएंयहां सड़कों पर ही रात गुजारती हैं महिलाएं
हर रात जुटते हैं लाखों लोगहर रात जुटते हैं लाखों लोग
शाम से ही आने लगते हैं दुकानदारशाम से ही आने लगते हैं दुकानदार
साड़ियों से ऐसे बुक करते हैं अपनी जगहसाड़ियों से ऐसे बुक करते हैं अपनी जगह
ज्यादातर दूकानों पर बैठती हैं महिलाएंज्यादातर दूकानों पर बैठती हैं महिलाएं
पुराने कपड़े और जूते बेचती हैं ये महिलाएंपुराने कपड़े और जूते बेचती हैं ये महिलाएं
अपने परिवार के साथ चलाती हैं ये दूकानेंअपने परिवार के साथ चलाती हैं ये दूकानें
Click to listen..