--Advertisement--

शैतान समझ मां ने छोड़ दिया था लावारिस, फिर पराए लोगों ने यूं बदली Life

दुःख की बात तो ये है कि लोगों एक साथ-साथ इस बच्चे की मां ने भी इसे बीमारी में अकेला छोड़ दिया।

Danik Bhaskar | Nov 15, 2017, 02:16 PM IST

वेस्ट अफ्रीका में रहने वाले कम्बोऊ साई की स्टोरी फिल्मी कहानी से कम नहीं है। 11 साल की उम्र से ही उसके चेहरे में कैंसर ट्यूमर हो गया था, जिसकी वजह से उसका पूरा चेहरा बिगड़ गया था। बीमारी के कारण उसकी मां ने पहले उसका ध्यान रखना बंद कर दिया। फिर उसने कम्बोऊ को छोड़ दिया। पराए आए मदद को सामने...

कम्बोऊ को लोग प्रोस्पर के नाम से भी जानते हैं। मात्र 11 साल की उम्र में बीमारी की चपेट में आने के बाद उसकी मां ने उसे छोड़ दिया था। पिता भी गरीबी के कारण उसका इलाज नहीं करवा पाए, जिस कारण उसके चेहरे का ट्यूमर लगातार बढ़ता ही गया। ट्यूमर के कारण वो सांस तक नहीं ले पाते थे। उनका चेहरा पूरी तरह बिगड़ गया था। इसके 6 साल के बाद, अब जाकर चैरिटी के जरिए प्रोस्पर की कीमोथेरेपी करवाई गई है। इतना ही नहीं, प्रोस्पर की मां ने भी उससे माफी मांगी है। जल्द ही कॉस्मेटिक सर्जरी के जरिए प्रोस्पर के चेहरे को सुधारने की कोशिश की जाएगी।

लोग कहते थे शैतान का है अवतार
प्रोस्पर ने बताया कि उनके लुक्स के कारण लोग उन्हें शैतान मानते थे। कुछ का कहना था कि शायद उन्होंने कुछ ऐसी चीज खा ली होगी, जिस कारण उनका चेहरा ऐसा हो गया है। लेकिन समय के साथ उनका ट्यूमर बढ़ता गया। सभी उनसे दूर रहने लगे। यहां तक की उनकी मां ने भी उनसे रिश्ता तोड़ दिया। सिर्फ उनके पिता ही उनके साथ रहे।

पिता ने की थी मदद की अपील
अपने बेटे की बिगड़ती हालत देख पिता ने उसके इलाज के लिए लोगों से मदद मांगना शुरू किया। चर्च ने प्रोस्पर के इलाज के लिए चैरिटी करवाई। उससे जमा हुए पैसों के जरिए प्रोस्पर की कीमोथेरेपी करवाई गई। डॉक्टर्स ने जांच में पता किया कि प्रोस्पर को जो ट्यूमर है, वो ज्यादातर काफी जल्दी बढ़ता है और इंसान की मौत हो जाती है। लेकिन प्रोस्पर के मामले में इसकी ग्रोथ धीरे-धीरे हुई, जिसकी वजह से वो अब तक जिंदा हैं। अब इलाज के बाद प्रोस्पर की हालत थोड़ी सुधरी है। अब उनकी आंखें भी खुलने लगी है।

आगे देखें इनकी अन्य फोटोज...