क्या आपको पता है?

--Advertisement--

आखिर नीचे से क्यों खुला होता है पब्लिक टॉयलेट्स का दरवाजा? ये है वजह

विश्व शौचालय दिवस के मौके पर जाने इसके पीछे का कारण

Danik Bhaskar

Nov 19, 2017, 05:39 PM IST

19 नवंबर को पूरी दुनिया में टॉयलेट डे मनाया जाता है। भारत में चल रहे स्वच्छ भारत अभियान की पूरी दुनिया में तारीफ की जा रही है। शहरों में आपने ऑफिसेज या मॉल में बने पब्लिक टॉयलेट्स कभी ना कभी यूज किए होंगे। लेकिन क्या आपने कभी जानने की कोशिश की है कि इन टॉयलेट्स के दरवाजे नीचे से खुले क्यों होते हैं? ये है वजह...


जब भी हम पब्लिक प्लेसेस के टॉयलेट के दरवाजे को देखते हैं तो मन में एक बार तो ये ख्याल जरूर आता है कि आखिर इसका दरवाजा इतना छोटा क्यों है? क्या इस पर खिड़की का दरवाजा लगा दिया गया है? लेकिन इसके पीछे कई कारण हैं। सबसे पहला कारण तो ये है कि इससे साफ-सफाई में आसानी होती है। चूंकि, पब्लिक टॉयलेट्स का इस्तेमाल कई लोग करते हैं, इसलिए ये काफी जल्दी गंदे हो जाते हैं। ऐसे में नीचे से खुले दरवाजों की वजह से फ्लोर को पोंछने में आसानी होती है। लेकिन यही सिर्फ एक कारण नहीं है। और भी कई वजहों से टॉयलेट्स के दरवाजे छोटे रखे जाते हैं।

आगे पढ़ें कैसे रोमियो पर लगाम लगाते हैं छोटे दरवाजे...

कई बार कुछ लोग पब्लिक टॉयलेट्स में सेक्युअल एक्टिविटी करने लगते हैं। ऐसे लोगों पर रोक लगाने के लिए ये दरवाजे छोटे रखे जाते हैं ताकि लोगों को इतनी भी प्राइवेसी ना मिले कि वो इस तरह के कामों में इन्वॉल्व हो जाएं। 

बच्चों की सिक्युरिटी 
बाथरूम के दरवाजे छोटे होने की वजह से अगर कभी कोई बच्चा खुद को अन्दर लॉक कर लेता है, तो उसे निकालने में सुविधा होती है। 

इमरजेंसी में आता है काम 
अगर कभी कोई बाथरूम के अंदर बेहोश हो जाए, तो इन छोटे दरवाजों की वजह से बाहर निकाला जा सकता है। 

शराब-सिगरेट ना पी पाए कोई 
कई बार कुछ लोग पब्लिक टॉयलेट्स में शराब-सिगरेट पीने लगते हैं। दरवाजा छोटा होने से अंदर बैठे लोगों की एक्टिविटी पर नजर रखी जा सकती है।  

 

Click to listen..