--Advertisement--

सरेआम लड़की को टॉर्चर होता देख रहे थे लोग, वजह जान रह जाएंगे हैरान

बीच सड़क पर एक लड़की को टॉर्चर किया जा रहा था। सबसे हैरानी की बात तो ये थी कि पास मौजूद सभी लोग इसे खड़े होकर देख रहे थे।

Dainik Bhaskar

Jan 03, 2017, 12:00 AM IST
लड़की को टॉर्चर किया जा रहा था और लोग खड़े होकर देख रहे थे लड़की को टॉर्चर किया जा रहा था और लोग खड़े होकर देख रहे थे
बीच सड़क पर एक लड़की को टॉर्चर किया जा रहा था। सबसे हैरानी की बात तो ये थी कि पास मौजूद सभी लोग इसे खड़े होकर देख रहे थे। ये सब कुछ कहीं और नहीं, बल्कि लंदन में हो रहा था। आखिर ऐसी क्या वजह थी, जिसके कारण लंदन जैसे शहर में लोग लड़की पर जुल्म होता देख कर भी चुप थे? जबरदस्ती बांध लगाया जा रहा था इंजेक्शन...
सड़क पर टॉर्चर की जा रही इस लड़की का नाम जैकलीन ट्रेड है। सड़क किनारे कांच के बॉक्स के अंदर जैकलीन को रखा गया था। कई तार को उनकी बॉडी से जोड़ कर रखा गया था। इसके अलावा मुंह को खींचकर उन्हें जबरदस्ती खिलाया जा रहा था। इतना ही नहीं, उनके बाल तक मुंडवाए जा रहे थे। जैकलीन के साथ बिल्कुल वैसा सुलूक किया जा रहा था, जैसा जानवरों के साथ होता है। कई घंटों तक जैकलीन में कांच के बॉक्स में रखा गया। लोग बॉक्स के बाहर खड़े होकर ये सब देख रहे थे। लेकिन कोई कुछ नहीं कह रहा था।
जानवरों को होने वाली तकलीफ बताने के लिए किया जा रहा था सब
कॉस्मेटिक कंपनी लश ने लड़की को टॉर्चर कर लोगों को ये दिखाने की कोशिश की थी कि कैसे टेस्ट और रिसर्च के नाम पर बेजुबान जानवरों को टॉर्चर किया जाता है। लोगों को जागरूक करने के लिए ये सब सेट-अप किया गया था। टेस्ट्स के नाम पर जानवरों को कई साल तक कांच में बंद रखा जाता है। इतना ही नहीं, उन्हें जबरदस्ती कई तरह की दवाइयां जबरदस्ती खिलाई जाती हैं। अभियान के जरिए लश ने लोगों को इस खौफनाक सच्चाई से अवगत कराया। कंपनी ने जानवरों की स्थिति दिखाते हुए जो भयानक सच बताया, उसे जानकर आपकी भी रूह कांप जाएगी।
आपको बता दें कि हर साल करीब 11 करोड़ 50 लाख जानवरों पर टेस्ट किया जाता है। इसमें US, जापान, चीन, ऑस्ट्रेलिया और फ्रांस जैसे देश टॉप पर हैं। रिसर्च के नाम पर इन जानवरों को बुरी तरह टॉर्चर किया जाता है।

आगे की स्लाइड्स में देखिए इस सच्चाई को दिखाती कुछ भयानक फोटोज...
लड़की के साथ जानवरों जैसा सुलूक किया जा रहा था लड़की के साथ जानवरों जैसा सुलूक किया जा रहा था
टेस्ट करने के नाम पर उनके मुंह को जबरदस्ती खिंचा जा रहा था टेस्ट करने के नाम पर उनके मुंह को जबरदस्ती खिंचा जा रहा था
कई घंटों तक कांच के बॉक्स में जैकलीन को टॉर्चर किया गया था कई घंटों तक कांच के बॉक्स में जैकलीन को टॉर्चर किया गया था
जैकलीन को तार से बांधकर जबरदस्ती खाना खिलाया जा रहा था जैकलीन को तार से बांधकर जबरदस्ती खाना खिलाया जा रहा था
ये सब कॉस्मेटिक कंपनी लश ने लोगों को जानवरों के साथ रिसर्च के नाम पर की जाने वाली दरिन्दगी दिखाने के लिए किया था ये सब कॉस्मेटिक कंपनी लश ने लोगों को जानवरों के साथ रिसर्च के नाम पर की जाने वाली दरिन्दगी दिखाने के लिए किया था
जानवरों के साथ काफी बुरा बर्ताव किया जाता है जानवरों के साथ काफी बुरा बर्ताव किया जाता है
रिसर्च के नाम पर बेजुबान जानवरों को टॉर्चर किया जाता है रिसर्च के नाम पर बेजुबान जानवरों को टॉर्चर किया जाता है
हर रोज इन जानवरों को कई तरह के इंजेक्शन लगाए जाते हैं हर रोज इन जानवरों को कई तरह के इंजेक्शन लगाए जाते हैं
ये अभियान लोगों को जानवरों को होने वाले दर्द का अहसास कराने के लिए किया गया था ये अभियान लोगों को जानवरों को होने वाले दर्द का अहसास कराने के लिए किया गया था
X
लड़की को टॉर्चर किया जा रहा था और लोग खड़े होकर देख रहे थेलड़की को टॉर्चर किया जा रहा था और लोग खड़े होकर देख रहे थे
लड़की के साथ जानवरों जैसा सुलूक किया जा रहा थालड़की के साथ जानवरों जैसा सुलूक किया जा रहा था
टेस्ट करने के नाम पर उनके मुंह को जबरदस्ती खिंचा जा रहा थाटेस्ट करने के नाम पर उनके मुंह को जबरदस्ती खिंचा जा रहा था
कई घंटों तक कांच के बॉक्स में जैकलीन को टॉर्चर किया गया थाकई घंटों तक कांच के बॉक्स में जैकलीन को टॉर्चर किया गया था
जैकलीन को तार से बांधकर जबरदस्ती खाना खिलाया जा रहा थाजैकलीन को तार से बांधकर जबरदस्ती खाना खिलाया जा रहा था
ये सब कॉस्मेटिक कंपनी लश ने लोगों को जानवरों के साथ रिसर्च के नाम पर की जाने वाली दरिन्दगी दिखाने के लिए किया थाये सब कॉस्मेटिक कंपनी लश ने लोगों को जानवरों के साथ रिसर्च के नाम पर की जाने वाली दरिन्दगी दिखाने के लिए किया था
जानवरों के साथ काफी बुरा बर्ताव किया जाता हैजानवरों के साथ काफी बुरा बर्ताव किया जाता है
रिसर्च के नाम पर बेजुबान जानवरों को टॉर्चर किया जाता हैरिसर्च के नाम पर बेजुबान जानवरों को टॉर्चर किया जाता है
हर रोज इन जानवरों को कई तरह के इंजेक्शन लगाए जाते हैंहर रोज इन जानवरों को कई तरह के इंजेक्शन लगाए जाते हैं
ये अभियान लोगों को जानवरों को होने वाले दर्द का अहसास कराने के लिए किया गया थाये अभियान लोगों को जानवरों को होने वाले दर्द का अहसास कराने के लिए किया गया था
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..