--Advertisement--

बेबी स्किन की कैसे करें अच्छे से देखभाल? आजमाएं ये 7 टिप्स

बच्चों की त्वचा ज्यादा सेंसेटिव होती है। ऐसे में बेबी की स्किन की केयर करने में कई बातों का ध्यान रखना होता है।

Danik Bhaskar | Mar 07, 2018, 10:09 AM IST

एडवरटोरियल। बच्चे की त्वचा वयस्कों की तुलना में तीन गुना ज्यादा सेंसेटिव और कोमल होती है। ऐसे में बेबी की स्किन की केयर करने में कई बातों का खास ध्यान रखना होता है। खासकर प्रोडक्ट्स का सिलेक्शन करते समय काफी सावधानी बरतने की जरूरत है। यहां हम बता रहे हैं 7 आसान टिप्स जिनके जरिए आप अपने बच्चे की स्किन को सेहतमंद रख सकते हैं।

स्पॉन्ज बाथ ज्यादा दें :
अगर बच्चा बहुत ही छोटा है तो उसे हफ्ते में तीन बार केवल स्पॉन्ज बाथ दें और चार बार नॉर्मल बाथ। स्पॉन्ज बाथ देने के लिए एक स्पॉन्ज या बहुत ही मुलायम कपड़े को गुनगुने पानी में भिगो लें। इसके बाद बहुत ही हल्के हाथों से बेबी के पूरे शरीर को पोंछ लें। रोजाना अपने बेबी को JOHNSON'S baby Top-To-Toe Baby wash से नहलाएं। यह आंखों और त्वचा के लिए बहुत ही माइल्ड होता है। इसलिए यह बेबी के पहले वॉश से ही उसके लिए काफी सूटेबल होता है।

आगे की स्लाइड्स में जानिए, Skin Care की अन्य टिप्स...

बहुत ही सॉफ्ट टॉवेल ही यूज करें : 
बॉथ के बाद बेबी की स्किन को बहुत ही सॉफ्ट टॉवेल से पोंछ लें। यह जरूर ध्यान रखें कि आप जिस भी टॉवेल का यूज करें, वह मुलायम होने के साथ-साथ साफ-स्वच्छ भी हो। एक बात का और ध्यान रखना चाहिए कि उसके कपड़े Johnson's Baby Laundry Detergent जैसे माइल्ड डिटरजेंट से ही धोने चाहिए। वयस्कों के डिटरजेंट में कई हानिकारक केमिकल्स होते हैं जो बच्चों के कपड़ों पर रह सकते हैं। इससे बच्चों की स्किन पर डर्मेटिटीज (स्किन पर इरिटेशन या रैशेज होना) हो सकता है। Baby laundry Deteregent बेबी के कपड़ों को साफ और मुलायम बनाता है और 99.9 प्रतिशत जर्म्स को दूर करता है।  

 

 

 

 

 

 

 


 

 

वाइप्स का यूज करें : 

डाइपर रैशेज हर बेबी की कॉमन स्किन प्रॉब्लम है। डाइपर एरिया लगातार गीला रहता है। इस वजह से इस एरिया पर अक्सर रैशेज उभरते रहते हैं। डाइपर रैशेज की वजह से बच्चा अनकम्फर्टेबल फील करता है और कई बार उसकी नींद पर भी असर पड़ता है। बच्चों की स्किन को जब भी क्लीन करना हो, बेबी वाइप्स का ही यूज करें। Johnson’s baby wipes में नॉर्मल वाइप्स की तुलना में तीन गुना तक अधिक लोशन होता है जिससे बेबी की सेंसेटिव स्किन रैश फ्री रहती है।  

मिनरल ऑयल से ही करें मसाज :
 

बेबी की रोजाना हल्के हाथों से मसाज करनी चाहिए। मसाज से बच्चे की मसल्स मजबूत होती है और वह हेल्दी बनता है। लेकिन मसाज करने से पहले सही तेल का चुनाव करना जरूरी है। गलत तेल के चुनाव से बेबी की स्किन पर बाहरी इरिटेशन की संभावना बढ़ जाती है। मसाज के लिए हमेशा मिनरल बेस्ड ऑयल ही यूज करना चाहिए। यह बेबी की स्किन के लिए काफी अच्छा होता है। Johnson's Baby Oil फार्मास्यूटिकल ग्रेड के मिनरल ऑयल से बना होता है। प्योर मिनरल ऑइस चिपचिपा नहीं होता है। इसलिए इसे लगाने से आपका बेबी सेफ और कंफर्टेबल फील करेगा। 

अच्छे बेबी पॉवडर का यूज करें : 

बेबी की त्वचा बहुत ही नाजुक होती है। ऐसे में ज्यादा माइश्चर से बचाने के लिए अच्छा बेबी पाउडर जरूरी है जो त्वचा को मुलायम बनाए रखें। वयस्कों के पॉवडर के उलट Johnson's baby powder बच्चों के लिए बहुत सुरक्षित है और यह फ्रिक्शन को दूर कर त्वचा को आरामदायक रखता है। यह करोड़ों छोटी-छोटी स्लिपरी प्लेट्स से बना है जो एक-दूसरे पर इस तरह से फिसलती हैं कि इससे फ्रिक्शन की वजह से होने वाले इरिटेशन को दूर करने में मदद मिलती है। इस तरह बेबी को आरामदायक महसूस होता है। बहुत ही क्लीन और क्लासिक खुशबू वाला यह शानदार सॉफ्ट बेबी पॉवडर फॉर्मूला आपके बच्चे की इंद्रियों को जागृत कर उसे फ्रेश फील करवाता है। 


 

 

जॉनसन्स  बेबी सोप यूज करें : 

छोटे बच्चों की स्किन पर माइश्चराइजिंग ऑइल की नैचुरल प्रोटेक्टिव कोटिंग होती है। यह स्किन की बाहरी परत को कवर करके रखती है। अगर यह तेल निकल जाए तो बच्चों की स्किन के ड्राइनेस होने, इरिटेशन होने और रैशेज होने की संभावना बढ़ जाती है। इससे बचने के लिए एक्सपर्ट Johnson's Baby Milk सोप यूज करने की सलाह देते हैं। 
Johnson's Baby Milk सोप में चौथाई हिस्सा माइश्चराइजिंग बेबी लोशन और विटामिन ई का होता है जो बेबी की स्किन के माइश्चर को बनाए रखता है।