हेल्थ एंड ब्यूटी

--Advertisement--

ट्रैफिक सिग्नल भी बढ़ाता है डायबिटीज का खतरा, रिसर्च में आया सामने

जयपुर के डायबिटीज एक्सपर्ट डॉ. अरविंद गुप्ता बता रहे हैं कुछ ऐसे कारण जो डायबिटीज के लिए जिम्मेदार होते हैं।

Danik Bhaskar

Dec 09, 2017, 12:02 AM IST

यूटिलिटी डेस्क। ज्यादातर मोटापे और जेनेटिक कारणों से डायबिटीज की आशंका बढ़ती है। लेकिन अब कई स्टडीज और रिसर्च में यह साबित हो चुका है कि डायबिटीज के लिए अर्बन स्ट्रेसर फैक्टर भी जिम्मेदार हैं। ये अर्बन स्ट्रेसर हमारी रोजमर्रा की जिंदगी में ही शामिल हैं, जिनके बारे में हमें जानकारी नहीं है। जयपुर के डायबिटीज एक्सपर्ट डॉ. अरविंद गुप्ता बता रहे हैं कुछ ऐसे कारण जो डायबिटीज के लिए जिम्मेदार होते हैं।

ट्रैफिक सिग्नल कैसे बढ़ाता है डायबिटीज का खतरा?

रोज लंबे समय तक रेड सिग्नल पर ट्रैफिक में खड़े रहने से इरिटेशन बढ़ता है। इसके कारण पेट में स्थित एंड्रिनल ग्लैंड से कार्टिजोल हॉर्मोन रिलीज होने लगता है जो कि एक तरह का नेचुरल स्टीरॉइड है। यह स्टीरॉइड पेनक्रियाज की बीटा सैल्स को नुकसान पहुंचाता है। इसके कारण इंसुलिन लेवल कम होने लगता है जिससे डायबिटीज का खतरा बढ़ता है।

आगे की स्लाइड्स पर जानिए डायबिटीज का खतरा...

पर्याप्त नींद नहीं लेने से


डायबिटीज केयर 2004 में पब्लिश एक रिसर्च के अनुसार रोज कम से कम 7 घंटे की नींद न लेने से बॉडी का इन्सुलिन लेवल बिगड़ने लगता है। ऐसे में डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता है। ऐसी कंडीशन में व्यक्ति की सिम्पैथेटिक नेर्वेस सिस्टम ज्यादा एक्टिव जो जाती है।

एयर पॉल्यूशन


एनवॉयरमेंट इंटरनेशनल जर्नल मार्च 2016 के मुताबिक, हवा में मौजूद पॉल्यूशन 2.5 एमएम पीएम के कण बॉडी में आसानी से चले जाते हैं। इससे इंसुलिन रेजिस्टेंट्स, इंफ्लमेंशन, हार्ट की कोरोनरी आर्टर्रीज को नुकसान पहुंचाता है। इनमें ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस पाया जाता है। यही स्ट्रेस डायबिटीज के लिए जिम्मेदार होता है।

अकेलापन


लंबे समय तक अकेले रहने और हेल्दी खाना नहीं खाने से भी डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में बॉडी को जरूरी विटामिन और मिनरल्स नहीं मिल पाते हैं। ज्यादा समय अकेले में बिताने से स्ट्रेस बढ़ता है। ये स्ट्रेस बॉडी में इंसुलिन का बैलेंस बिगाड़ता है जिससे डायबिटीज की प्रॉब्लम बढ़ने लगता है।

Click to listen..