--Advertisement--

एडीज मच्छर की बदली तासीर, अब एकसाथ दे सकता है डेंगू और चिकनगुनिया

मच्छर की प्रवृत्ति बदल रही है। वह डेंगू और चिकनगुनिया के वायरस का एक साथ कैरियर बन गया है।

Dainik Bhaskar

Jan 18, 2018, 04:19 PM IST
New Danger : Tendency of mosquito is changing

हेल्थ डेस्क। मच्छर की प्रवृत्ति बदल रही है। वह डेंगू और चिकनगुनिया के वायरस का एक साथ कैरियर बन गया है। मप्र की राजधानी भोपाल में हाल ही में ऐसे करीब एक दर्जन मामले सामने आए थे जिनमें डेंगू और चिकनगुनिया दोनों का संक्रमण पाया गया था। इसकी पुष्टि स्वास्थ्य विभाग ने भी की है। लेकिन इस मामले में भोपाल अकेला शहर नहीं है। बीते दिनों कई जगहों पर मरीजों में इन दोनों बीमारियों के लक्षण एक साथ पाए गए। इसलिए अब संभावित मरीजों के ब्लड सैंपल से चिकनगुनिया और डेंगू दोनों का टेस्ट किया जा रहा है।

क्यों हो रहा है ऐसा?

एम्स हॉस्पिटल के माइक्रोबॉयोलाजी विभाग के डॉ. देवाशीष विश्वास कहते हैं कि दोनों बीमारियों के लिए एडीज मच्छर जिम्मेदार होता है। एडीज मच्छर पहले एक ही वायरस को कैरी करता था, लेकिन अब इसकी तासीर में अंतर आया है। यह अब एक साथ दोनों वायरस को कैरी कर रहा है। इसलिए जब यह किसी व्यक्ति को काटता है तो दोनों वायरस के शरीर में पहुंचने के चांस बढ़ जाते हैं। इससे जहां एक ओर डेंगू की वजह से प्लेटलेट्स कम होने लगते है तो वहीं चिकनगुनिया की वजह से जोड़ों में दर्द होने लगता है।

चिकनगुनिया के लक्षण :

बुखार होने से पहले शरीर में दर्द और बाद में जोड़ों में तेज दर्द होता है। बुखार के साथ ठंड भी लगती है। 3 से 4 दिन के अंदर शरीर पर लाल चकत्ते पड़ जाते हैं। उल्टी होना, सिरदर्द होना, आंखें लाल हो जाना इसके प्रमुख लक्षण हैं।

डेंगू के लक्षण :

तेज बुखार के साथ नाक बहना, खांसी, त्वचा पर हल्के रैशेज, आंखों के पीछे दर्द आदि सिम्पटम नजर आते हैं। कुछ लोगों में लाल और सफेद निशानों के साथ पेट खराब होना, उल्टी जैसे लक्षण भी देखने मिल सकते हैं।

कैसे बचें मच्छरों से?

- मच्छरों को हवा बिल्कुल भी पसंद नहीं होती। इसलिए उनसे बचने का सबसे बेहतर तरीका यह है कि अपने कमरे में पंखे को ऑन रखें, भले ही इसे धीरे चलाएं।
- कमरे में कपूर जला दें और करीब पंद्रह मिनट के लिए खिड़कियों और दरवाजों को पूरी तरह बंद कर दें। इसकी महक से मच्छर बेहोश हो जाएंगे या भाग जाएंगे।
- सरसों के तेल में अजवाइन पाउडर मिलाकर इससे गत्ते के टुकड़ों को भिगो लें। अब इन टुकड़ों को कमरे में रख दें। इससे मच्छर भाग जाएंगे।
- मच्छर भगाने वाली रिफिल में लिक्विड खत्म हो जाने पर उसमें नींबू का रस और नीलगिरी का तेल भर लें। अब इसे ऑन कर दें। इससे भी मच्छर गायब हो जाएंगे।

X
New Danger : Tendency of mosquito is changing
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..