--Advertisement--

इन 5 वजहों से आपको लग सकता है चश्मा

आंखों की फोकसिंग मसल्स डैमेज होने की कई वजहें हैं जिनके कारण आंखों की रोशनी कम हो जाती है।

Danik Bhaskar | Nov 13, 2017, 12:05 AM IST
हेल्थ डेस्क। आंखों की फोकसिंग मसल्स डैमेज हो जाने के कारण आंखों की रोशनी कम हो जाती है। इसके कारण चश्मा लगाने की जरूरत पड़ती है। आंखों में मौजूद फोकसिंग मसल्स के डैमेज होने के कई कारण होते हैं। अगर इसका सही समय पर इसके संकेतों को पहचानकर ट्रीटमेंट ले लिया जाए या सावधानियां बरती जाएं तो इस प्रॉब्लम को कंट्रोल किया जा सकता है। आई स्टेशलिस्ट डॉ. सुनील साहनी बता रहे हैं कि आंखों में किन वजहों से चश्मा लग सकता है।
कैसे बचें चश्मा लगने की प्रॉब्लम से?
लाइट में करें काम
कम्प्यूटर पर काम करते समय रूम की लाइट जलाकर रखें। ऐसे में कम्प्यूटर से निकलने वाली रोशनी आंखों पर कम इफेक्ट डालती है।
कम्प्‍यूटर से दूरी
काम करते समय आंखों से कम्प्यूटर की दूरी कम से कम 40 सेमी रखें। इससे कम्प्यूटर की रोशनी का आंखों पर कम असर पड़ेगा।

पलकें झपकते रहें
काम करते समय पलकों को लगातार झपकते रहें। इससे आंखों में ड्रायनेस नहीं होगी और आंखों में जलन की प्रॉब्लम कम होगी।
ब्रेक लें
काम के दौरान हर 40 मिनट में थोड़ा ब्रेक लें। 5 मिनट आंखें बंद रखें। इससे आंखों की थकान दूर होगी।
एक्सरसाइड
काम के दौरान दिन में दो बार आंखों की एक्सरसाइज करें। इसके लिए 5 मिनट तक आंखों की पुतलियों को पहले दाएं तरफ घुमाएं और फिर बाएं तरफ घुमाएं।
हरा पौधा देखें
काम के दौरान हर एक घंटे बाद 10 मिनट तक किसी हरे पौधे को देखें। इससे आंखें और ब्रेन रिलैक्स होंगे।
हेल्दी डाइट
काम के दौरान डाइट में दूध, दही, पनीर, अंडा, गाजर और हरे पत्तेदार सब्जियां शामिल करें। इनसे पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन, विटामिन A, E और C मिलेंगे जो आंखों को हेल्दी रखेंगे।
आंखें धोएं
दिन में कम से कम 4 या 5 बार आंखें धोएं। इससे आंखों में ड्रायनेस की प्रॉब्लम नहीं होगी।
आगे की स्लाइड्स पर जरूर जानें चश्मा लगने की 6 वजहें...
(कैसे कम होगा हार्ट ब्लॉकेज का खतरा, जानने के लिए क्लिक करें आखिरी स्लाइड पर)