--Advertisement--

uninstall कर दें ये 8 तरह के Apps, फास्ट हो जाएगा आपका स्मार्टफोन

आईटी एक्सपर्ट मंगलेश एलिया बताते हैं एंड्रॉइड सिस्टम को ठीक से काम करने के लिए कम से कम 4GB फ्री स्पेस की जरूरत होती है।

Danik Bhaskar | Mar 09, 2018, 12:04 AM IST

यूटिलिटी डेस्क। आईटी एक्सपर्ट मंगलेश बताते हैं कि एंड्रॉइड सिस्टम को ठीक से काम करने के लिए कम से कम 4GB फ्री स्पेस की जरूरत होती है। तभी फोन के सभी फीचर प्रॉपली काम कर पाते हैं। इसको ऐसे समझें अगर फोन की मेमोरी 32GB तो यूजर को उसे 28GB तक ही भरना चाहिए। लेकिन यूजर उसे पूरा कंज्यूम कर लेते हैं फिर एंड्रॉइड सिस्टम ठीक से काम नहीं कर पाता और स्लो हो जाता है।

कुछ ऐप्स फोन की स्लो प्रोसेसिंग के लिए जिम्मेदार होते हैं। ये ऐप फोन की मेमोरी को कंज्यूम करके उसे स्लो कर देते हैं। कई बार यूजफुल दिखने वाले ऐप भी फोन को स्लो बना देते हैं। इनसे फोन की परफॉर्मेंश पर असर पड़ता है। इनमें फोन को सिक्योर करने वाले ऐप से लेकर गेमिंग ऐप तक शामिल हैं। आइए जानते हैं इनके बारे में।

इन टिप्स का करेंगे यूज तो फोन नहीं होगा Slow

- फोन को प्रॉसेसिंग फास्ट रखने के लिए उसे दिन में एक बाद रिबूट कर लेना चाहिए।
- डाटा बैकअप लेकर Factory Reset करने से फोन नए की तरह फास्ट हो जाता है।
- फोन में इन्स्टॉल Share it, xender जैसी ऐप को क्लीन करते रहे।
- फोन से डुप्लीकेट और अनवांटेड फोटोज को क्लीन करते रहे।
- ऐप की कैश क्लियर करते रहे।


आगे की स्लाइड्स पर जानिए उन ऐप्स के बारे में जिनको हटाने से फोन फास्ट हो जाएगा...

शॉपिंग ऐप्स
ई-कॉमर्स कंपनियां उनके ऐप्स से शॉपिंग करने पर सामान पर ज्यादा डिस्काउंट देती हैं। ऐसे में यूजर्स मल्टीपल शॉपिंग ऐप्स को फोन में इन्स्टॉल कर लेते हैं। ये ऐप्स फोन की सबसे ज्यादा मेमोरी कन्ज्यूम करके उसे स्लो बना देते हैं।

हैवी गेमिंग ऐप्स
फोन में हैवी गेमिंग apps रखना फोन को स्लो करने जैसा है। अगर आपने फोन में 2GB-3GB तक के हैवी गेम रखते हैं तो उन्हें तुरंत अनइन्स्टॉल कर दें।

 

widgets
फोन में widgets रखना कई बार हेल्पफुल हो सकता है क्योंकि इससे आपको फोन की होम स्क्रीन पर सारी काम की चीजें मिल जाती हैं। लेकिन ये फोन को स्लो बना देते हैं। फोन में कई widgets रखने से इसकी प्रॉसेसिंग स्लो हो जाती है। यह प्रोसेसर की पावर तब भी कंज्यूम करते हैं जब फोन लॉक हो और उसकी स्क्रीन ऑफ हो।

 

Launcher ऐप और थीम्स
फोन को क्रिएटिव और अट्रैक्टिव बनाने के लिए यूजर तरह तरह के लॉन्चर ऐप और थीम्स ऐप्स डाउनलेाड कर लेते हैं। ये ऐप फोन की मेमोरी को कंज्यूम कर लेते हैं और उसे स्लो बना देते हैं। फोन के साथ दिए गए वालपेपर और थीम्स का यूज करना ही फोन के लिए अच्छा होता है।

 

डाटा क्लीनिंग ऐप्स

डाटा क्लीनिंग ऐप्स स्मार्टफोन से जंक फाइल्स और कैश (Cache) क्लियर करके आपके फोन का परफॉर्मेंस बढ़ाने का दावा करते हैं। लेकिन ये ऐप्स फोन की प्रॉसेसिंग को स्लो कर देते हैं। कैश क्लियर करने के लिए आपको अलग से ऐप डाउनलोड करने की जरूरत नहीं है।

 

Settings>> Storage>> Clear Cached Data क्लियर कर सकते हैं।

रैम को सेव करने का दावा करने वाले ऐप

रैम को सेव करने का दावा करने वाले ऐप्स फोन को स्लो बना देते हैं। साथ ही प्रोसेसर की परफॉर्मेंस को भी वीक करते हैं। हमारे फोन का प्रोसेसर इतना पावरफुल होता है कि खुद ही फोन की रैम को सेव करता रहता है। इन थर्डपार्टी ऐप को फोन से डिलीट करना ही बेहतर है।

एंटीवायरस ऐप
फोन की सिक्यूरिटी का दावा करने वाले ये एेप फोन को स्लो बना देते हैं। कई बार हम बिना ये जाने कि हमारे हैंडसेट की कॉन्फिग्रेशन के हिसाब से कौन-सा एंटीवायरस सही होगा, हम कोई भी एंटीवायरस ऐप डाउनलोड कर लेते हैं। थर्ड पार्टी एंटीवायरस ऐप्स डाउनलोड करना फोन की परफॉर्मेंस और बैटरी दोनों के लिए अच्छा नहीं है।


 अब कंपनियां अपने हैंडसेट्स में ऐसे इनबिल्ट सॉफ्टवेयर्स देने लगी हैं जो आपके फोन को न सिर्फ virus से बचाते हैं, बल्कि फोन का डाटा भी सेफ रखते हैं। इसलिए एंटीवायरस ऐप्स डाउनलोड नहीं करना चाहिए। 

 

बैटरी सेवर Apps
रैम बूस्टर की तरह ही बैटरी सेविंग ऐप्स भी किसी काम के नहीं है। ये ऐप भी फोन को स्लो कर देते हैं। इसलिए अगर आपने ऐसा कोई ऐप डाउनलोड करके रखा है तो उसे हटा दीजिए