--Advertisement--

ट्रेन में हर यात्री को सिर्फ 92 पैसे देकर मिलता है 10 लाख रु. तक का इंश्योरेंस

ट्रेन में सफर के दौरान आप 1 रुपए से भी कम में ट्रेवल इंश्योरेंस ले सकते हैं।

Danik Bhaskar | Feb 23, 2018, 01:11 PM IST

यूटिलिटी डेस्क। ट्रेन में सफर के दौरान आप 1 रुपए से भी कम में ट्रेवल इंश्योरेंस ले सकते हैं। जी हां, रेलवे सिर्फ 92 पैसे में 10 लाख रुपए तक का इंश्योरेंस कवर देता है। यह फेसिलिटी सभी यात्रियों के लिए है। हालांकि पैसेंजर को इसे लेने या नहीं लेने का ऑप्शन मिलता है।

मौत होने पर 10 लाख तक का कवर
इंश्योरेंस लेने वाले किसी यात्री की यदि रेल दुर्घटना में मौत हो जाती है तो उसके नॉमिनी या लीगल उत्तराधिकारी को 10 लाख रुपए तक का कवर इस स्कीम के तहत दिया जाता है। वहीं यदि दुर्घटना में किसी तरह की शारीरिक अक्षमता आ जाती है तो 7.5 लाख रुपए तक का कवर इसमें मिलता है। थोड़ा-बहुत शारीरिक नुकसान पहुंचा है तो इसमें 2 लाख रुपए तक का कवर है।

सिर्फ ऑनलाइन टिकट पर ही लागू है स्कीम
यह स्कीम सिर्फ ऑनलाइन टिकट बुक करने पर ही लागू होती है। IRCTC की वेबसाइट से टिकट बुक करने पर पेमेंट होने के पहले इंश्योरेंस लेने का ऑप्शन पैसेंजर को मिलता है एक्सीडेंटल कवरेज सिर्फ ट्रैवल टाइम के लिए होता है। इंश्योरेंस लेने पर नॉमिनी की सही डिटेल भरना न भूलें।

4 माह के अंदर करना होता है क्लेम, देखिए अगली स्लाइड में...

कब कर सकते हैं क्लेम


> ट्रेन में यदि कोई ऐसे हादसे का शिकार होता है तो उसके नॉमिनी को एक्सीडेंट होने के 4 माह के अंदर-अंदर इंश्योरेंस कंपनी को इस बारे में बताना होगा। क्लेम एनईएफटी के जरिए मिलेगा। फ्रॉड से जुड़ा कुछ भी मामला हुआ तो इंश्योरेंस के तहत कोई फायदा संबंधित यात्री को नहीं मिलेगा। 

 

5 साल तक के बच्चों के लिए नहीं


> यह स्कीम 5 साल तक के बच्चों और फॉरेन सिटीजन के लिए नहीं है। हालांकि कंफर्म के साथ ही आरएसी और वेटिंग लिस्ट वाले पैसेंजर्स भी इस इंश्योरेंस को ले 

सकते हैं। कस्टमर को पॉलिसी इंफॉर्मेशन एसएमएस के जरिए मिलती है। पॉलिसी नंबर टिकट बुकिंग हिस्ट्री में देखी जा सकती है। टिकट बुकिंग के बाद इंश्योरेंस 

कंपनी की वेबसाइट पर नॉमिनेशन डिटेल्स डालना होती है। यदि नॉमिनेशन डिटेल्स नहीं डाली गई है तो फिर लीगल उत्तराधिकारी को क्लेम मिलता है।