Hindi News »Lifestyle »Wellness» Dr. RK Anands Guide To Child Care Parenting The Indian Way

Book Review: ‘गाइड टू चाइल्ड केयर’ उनके लिए जो पैरेंट्स हैं, या बनने वाले हैं!

‘गर्भावस्था से किशोरावस्था तक बच्चों की देखभाल की संपूर्ण गाइड है डॉ. आनंद की यह किताब।’

Dainikbhaskar.com | Last Modified - Jan 17, 2018, 12:57 PM IST

Book Review: ‘गाइड टू चाइल्ड केयर’ उनके लिए जो पैरेंट्स हैं, या बनने वाले हैं!

काश...ये किताब तब होती:

'कितना अच्छा होता अगर हमारे ज़माने में भी, जब हम अपने बच्चों की परवरिश कर रहे थे, इस तरह की कोई पुस्तक उपलब्ध होती।'

ये कमेंट उन दादा/दादी और नाना/नानियों की है, जिन्होंने डॉ आनंद की यह किताब पढ़ी है।

'गाइड टू चाइल्ड केयरः पैरेंटिंग द इंडियन वे' उन सभी सवालों का जवाब है, जो प्रेगनेंसी से लेकर बच्चे के खास बिहेवियर और कई बीमारियों से लेकर बच्चे की इमोशनल और साइकलॉजिकल जरूरतों तक के बारे में मां-बाप या दादा-दादी द्वारा आमतौर से पूछे जाते हैं। यह किताब उन लोगों को जरूर पढ़नी चाहिए, जो या तो पैरेंट्स बनने वाले हैं या हाल ही में बने हैं। एक प्रेगनेंट महिला के लिए बच्चे और उसकी देखभाल से जुड़ी हर छोटी-बड़ी बातों को इस गाइड में शामिल किया गया है। इसी वजह से इसे काफी पसंद भी किया गया। देश के कई बड़े अखबारों और मैग्ज़ीन्स ने इस किताब को सदी की महान किताबों में से एक और बेंजामिन स्पॉक की किताब 'बेबी एंड चाइल्ड केयर' का भारतीय जवाब बताया है।

देश के जाने-माने चाइल्ड स्पेशलिस्ट डॉ राजकुमार आनंद की यह किताब मां और बच्चे से आगे जाकर बच्चे की सही पैरेंटिंग और उसे एक अच्छा इंसान बनाने से जुड़ी हुई है। डॉ.आनंद अपनी इस किताब में प्रेगनेंसी के बेसिक बातों से शुरूआत करते हैं। उन्होंने बच्चों के नेचर और बिहेवियर को समझने की जरुरत पर भी ज़ोर दिया है, जिसे लेकर अक्सर पैरेंट्स उलझन में पड़ जाते हैं। हालांकि इस किताब के पहले कई एडिशन हिंदी और अंग्रेजी में आ चुके हैं, लेकिन Revised Edition में कुछ नए अध्याय भी जोड़े गए हैं।

इस किताब में चिकित्सा की वैकल्पिक पद्धतियों आयुर्वेद, होम्योपैथी और नेचरोपैथी के महत्व व उपयोगिता का भी जिक्र किया गया है। बच्चे को जन्म देने की प्लानिंग से शुरूआत करते हुए लेखक ने प्रेगनेंसी और लेबर पेन, हॉस्पिटल में बच्चे की देखभाल और उसके बढ़ने के सालों में क्या और किन बातों का ध्यान रखना जरूरी होता है, पर काफी डिटेल में लिखा है। और सबसे खास बात, एक बेहतर मां बनने के लिए जरूरी हिदायतें इस गाइड में शामिल हैं। कम और सीधे शब्दों में कहें तो प्रेगनेंसी से बड़े होते बच्चों की देखरेख की कंप्लीट गाइड है डॉ. आनंद की यह किताब।

इन सवालों के जवाब देती है यह गाइड


बच्चे के जन्म और पैरेंटिंग से जुड़े कई सवालों के जवाब हैं इस गाइड में। सवाल कुछ इस जैसे हैं-


- क्या यह बच्चे को जन्म देने की सही उम्र है?
- क्या करें जब आपका बच्चा रोने लगे?
- क्या एक वर्किंग मदर ब्रेस्टफीडिंग करा सकती है?
- पैरेंटिंग के लिए ज्वाइंट फैमिली कितनी मददगार है?
- उधम मचाने वाले बच्चे को कैसे संभालें?
- क्या बच्चा टॉयलेट-ट्रेनिंग के लिए तैयार है?
- क्या वैक्सीन सेफ हैं?
- सेक्स एजुकेशन की सही उम्र क्या है?
- एक खुश बच्चे की तरह उसे कैसे बड़ा किया जाए?
- क्या बचपन की बीमारियों के लिए ज्यादा दवाएं जिम्मेदार हैं?
- अपने बड़े होते बच्चे को कैसे संभालें?
- मेडिकल इमरजेंसी होने पर मैं क्या करूं?

लेखक के बारे में

डॉ आरके आनंद {MD, (Paediatrics), FIAP (India), FRCP (Edinburgh), DCH (London)} का नाम देश के सीनियर चाइल्ड स्पेशलिस्ट में बड़े सम्मान के साथ लिया जाता है। यूनिसेफ के चाइल्ड केयर प्रोग्राम के एडवाइज़र भी हैं। मुंबई के जसलोक हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर में Paediatrics and Neonatology डिपार्टमेंट के हेड भी हैं। उन्हें इंडियन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स और रॉयल कॉलेज ऑफ पीडियाट्रिक्स एडिनबर्ग की फेलोशिप भी मिल चुकी है।

फॉरेन के कई बड़े स्पेशलिस्ट्स के साथ काम कर चुके डॉ आनंद रेडियो, टीवी पर कई प्रोग्राम्स प्रस्तुत करने के अलावा अखबार-मैग्जीन्स में रेग्युलर लिखते रहते हैं। उनकी इससे पहले भी चाइल्ड केयर पर कई किताबें पब्लिश हो चुकी हैं, जो बेस्ट सेलर रही हैं।

आप भी ऑर्डर कर सकते हैं यह किताब, Amazon पर उपलब्ध है


भाषा-अंग्रेजी
प्रकाशक- Vakils Publications
कीमत - 595 रुपए

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Wellness

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×