पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अनूठा हॉर्नबिल

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
(फोटो हॉर्नबिल)
दोस्तों, अपने आसपास दिखाई देने वाले पशु-पक्षियों के बारे में तो आप हमेशा पढ़ते रहते हैं। लेकिन ऐसे पशु-पक्षियों के बारे में भी जानें, जो आपने न देखे हों और जिनका नाम भी नहीं सुना हो.. चलिए जानते हैं ऐसे ही एक पक्षी हॉर्नबिल के बारे में..
कौन है हॉर्नबिल

यह बुसेरोटिडी परिवार का पक्षी है, जो मुख्य रूप से एशिया, अफ्रीका और मेलानेशिया के द्वीपों, जिनमें न्यू गिनी और फिजी आदि शामिल हैं, में पाया जाता है। ‘ग्रेट हॉर्नबिल’ भारत के अरुणाचल प्रदेश व केरल का राजकीय पक्षी है ।
हॉर्नबिल नाम क्यों

हॉर्नबिल दुनिया के सबसे आकर्षक पक्षियों में से एक है। गाय के सींग के समान इसकी अद्भुत रंग-बिरंगी चोंच और उस पर हड्डियों से बना हुआ हेलमेट इसकी विशेषता है। इसी खूबी की वजह से इसे ‘हॉर्नबिल’ नाम दिया गया है।
हॉर्नबिल की प्रजातियां

हॉर्नबिल की लगभग 55 प्रजातियां हैं। इनमे 24 प्रजातियां अफ्रीका में हैं। भारतीय उपमहाद्वीप में इसकी 10 प्रजातियां पाई जाती हैं। इनमें ‘इंडियन ग्रे हॉर्नबिल’ की प्रजाति सब जगह फैली हुई है। इंडोनेशिया में हॉर्नबिल की 13 प्रजातियां हैं।
कहां रहता है?

हॉर्नबिल पेड़ के कोटर या चट्टान की दरार में अपना घोसला बनाता है। रंग-रूप के अलावा इसका आकार भी अलग-अलग होता है। ‘काला बौना हॉर्नबिल’ मात्र 1.06 किलोग्राम का होता है, वहीं ‘सदर्न ग्राउंड हॉर्नबिल’ का वजन 6.2 किलोग्राम होता है। नर आकार में मादा से बड़ा होता है। चोंच का आकार भी अलग-अलग पाया जाता है ।
शरीर के रंग

इसके पंखों का रंग काला, नीला, स्लेटी, भूरा, सफेद और मटमैला होता है। चोंच का रंग पीला, सफेद, लाल और नारंगी होता है। मादा अबीसीनिया ग्राउंड हॉर्नबिल का रंग नीला, जबकि नर का लाल व नीला होता है।

हॉर्नबिल दिन में घूमने वाला पक्षी है। यह जोड़े में या समूह में रहता है। मादा एक बार में छह सफेद अंडे किसी पेड़ के कोटर या चट्टान की दरार में देती है। अंडे देने के बाद मादा अक्सर इस कोटर में अपने आप को कैद कर लेती है। नर व मादा कोटर के मुंह को मिट्टी की दीवार से बंद कर देते हैं। उसमें सिर्फ खाना पहुंचाने लायक ही छेद रह जाता है। इस दौरान नर फलों का गूदा मादा को भोजन के रूप में पहुंचाता रहता है। जब बच्चे बड़े हो जाते हैं तो नर और मादा मिट्टी की दीवार को हटा देते हैं।
चोंच की खासियत

इसकी विशाल चोंच गरदन की मजबूत मांसपेशियों और मेरुदंड से जुड़ी होती है। पैनी चोंच इन्हें लड़ने, पंखों को साफ करने, घोसला बनाने और शिकार को पकड़ने में सहायता करती है। चोंच की इसी विशालता के कारण यह पक्षी गहरी और तेज आवाज करता है। हेलमेट के जैसी हड्डी की मजबूत बनावट शत्रु पर तेज प्रहार करने में मददगार होती है।
‘हॉर्नबिल आइवरी’

हॉर्नबिल के सिर पर बना हेलमेट एक प्रकार की हड्डी होती है, जिसे ‘हॉर्नबिल आइवरी’ कहते हैं। चीन व जापान आदि देशों में नक्काशीदार वस्तुएं बनाए जाने से इसकी बड़ी मांग है। इसी कारण मनुष्य ही हॉर्नबिल का सबसे बड़ा शत्रु है।
क्या खाता है?

हॉर्नबिल सर्वभक्षी (सबकुछ खाने वाला) है। यह मुख्य रूप से फल-फूल और छोटे जीवों को खाता है।