• Hindi News
  • कमेटी के असहयोग से टला पटना साहिब महोत्सव

कमेटी के असहयोग से टला पटना साहिब महोत्सव

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज। पटना सिटी

बैसाखी पर्व के अवसर पर पटना साहिब महोत्सव का आयोजन २००८ से पर्यटन विभाग के द्वारा होता आया है। मगर इस बार पटना साहिब महोत्सव का आयोजन नहीं हो रहा है जिससे सिख संगतों व स्थानीय जनता में निराशा है।

कमेटी के पदाधिकारियों का सहयोग नहीं

पर्यटन विभाग के निदेशक उमाशंकर प्रसाद ने पूछे जाने पर बताया कि विभाग की ओर से तख्तश्री कमेटी को पत्र भेजा गया, मगर कोई भी पदाधिकारी बैठक में भाग लेने नहीं आए। पटना साहिब महोत्सव की तैयारी में कमेटी के पदाधिकारियों के साथ विमर्श किया जाता है। इसमें कार्यक्रम की रूपरेखा तैयार करने से लेकर बुलाए जाने वाले कलाकारों के बारे में बात होती है। दरअसल गुरुपर्व के दौरान विशेष दीवान में हुए विवाद के प्रकरण में तख्तश्री कमेटी के पांच पदाधिकारी नामजद थे। वे सब अपनी अग्रिम जमानत के लिए परेशान थे। साथ ही कार्यालय भी नहीं आ रहे थे। दूसरा कारण यह रहा कि पटना साहिब महोत्सव दो दिन 13 व 14 अप्रैल को होता है। ऐसे में लोकसभा चुनाव में पुलिस प्रशासन के अधिकारी व पदाधिकारियों से लेकर जनता की भी व्यस्तता है। ऐसे में महोत्सव का आयोजन मुश्किल था। 2008 में शुरू हुए महोत्सव एक दिन का होता था, मगर 2012 से दो दिनों का किया गया।

नामी कलाकारों की रही है भागीदारी

पटना साहिब महोत्सव में लोक गायिका शारदा सिन्हा, दादरा व ठुमरी के कलाकार रजा अली खां, सूफी कव्वाली गायक साबरी ब्रदर्स, सूफी कलाम बडाली ब्रदर्स, पंजाबी फोक के सदाबहार गायक डॉ. जसविंदर नरूला, गायक दलेर मेहंदी, लोकगीत गायिका प्रीति सिन्हा, सूफी गायक हंस राज हंस, मालिनी अवस्थी आदि ने अपनी प्रस्तुति दी है। इसके पूर्व 2010 में भी लोकसभा चुनाव के कारण पटना साहिब महोत्सव का आयोजन नहीं हो पाया था।

कोट

तख्तश्री कमेटी के असहयोग एवं चुनाव के कारण पटना साहिब महोत्सव नहीं हो पाया है। चुनावी आचार संहिता के समाप्त होने के बाद कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा।

उमाशंकर प्रसाद, निदेशक, बिहार पर्यटन





॥तख्तश्री कमेटी के असहयोग एवं चुनाव के कारण पटना साहिब महोत्सव नहीं हो पाया है। चुनावी आचार संहिता के समाप्त होने के बाद कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा।

उमाशंकर प्रसाद, निदेशक, बिहार पर्यटन

पटना साहिब महोत्सव में लोक गायिका शारदा सिन्हा, दादरा व ठुमरी के कलाकार रजा अली खां, सूफी कव्वाली गायक साबरी ब्रदर्स, सूफी कलाम वडाली ब्रदर्स, गायक डॉ. जसपिंदर नरूला, दलेर मेहंदी, लोकगीत गायिका प्रीति सिन्हा, सूफी गायक हंस राज हंस, मालिनी अवस्थी आदि ने प्रस्तुति दे चुकी हैं।

नामी कलाकारों की रही है भागीदारी

भास्कर न्यूज. पटना सिटी

बैसाखी पर पटना साहिब महोत्सव का आयोजन २००८ से पर्यटन विभाग के द्वारा होता आया है। मगर इस बार महोत्सव का आयोजन नहीं हो रहा। इससे सिख संगतों व स्थानीय जनता में निराशा है।

पर्यटन विभाग के निदेशक उमाशंकर प्रसाद ने बताया कि विभाग की ओर से तख्तश्री कमेटी को पत्र भेजा गया, मगर कोई भी पदाधिकारी बैठक में भाग लेने नहीं आए। पटना साहिब महोत्सव की तैयारी में कमेटी के पदाधिकारियों के साथ विमर्श किया जाता है। इसमें कार्यक्रम की रूपरेखा तैयार करने से लेकर बुलाए जाने वाले कलाकारों के बारे में बात होती है। चुनाव में अफसर भी व्यस्त चल रहे हैं।