• Hindi News
  • मौत बेटे की हुई, मतदान से वंचित पिता को किया गया

मौत बेटे की हुई, मतदान से वंचित पिता को किया गया

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कोंडागांव. बार-बार की विनती के बावजूद उसे वोट डालने नहीं दिया गया। पीडि़त पिता समधु पांडे के मुताबिक मौत उसके बेटे मोहन पांडे की हुई थी। यह वाकिया 10 अप्रैल को लाक माकड़ी की पंचायत एरला के आश्रित गुमड़ी मतदान केंद्र में मतदान के दौरान उजागर हुआ। एक ओर जहां जीवित समधु जीवित रहने के बावजूद मतदान नहीं कर पाया तो दूसरी ओर मंगली, फूलमति, कोसो, महावीर, डमरु, लक्ष्मण आदि ऐसे मतदाताओं के नाम सूची में दर्ज मिले जिनकी मौत पहले ही हो चुकी है। पंचायत बेलोंडी के आश्रित तोरेंगा। निवासी कैलाश पांडे के मतदान का मौका इसलिए नहीं दिया गया। क्योंकि उसका नाम भी मतदाता सूची से गायब था। कैलाश के मुताबिक बीते 8-9 साल से उसने अपना नाम सूची में शामिल करवाने आवेदन दे रखा है।
समय की कमी अखर गई : समय की कमी और मतदाताओं की अधिकता के चलते कुछ मतदाता वोट डालने से चूक गए। पंचायत अनतपुर मतदान केंद्र के 1310 वोटरों में से 844 मतदाता ही वोट डाल सके। यहां पहुंचे कुछ मतदाताओं क 3 किमी दूर आंगाकोना पारा से चलकर आना पड़ा था। मुख्यालय एरला व आश्रित गुमड़ी में अलग-अलग मतदान केंद्र बनाए गए थे। इनमें क्रमश: 936 में से 741, 341 में से 291 वोट पड़े। बेलोंडी में 739 में 649, राकसबेड़ा में 456 में 399, हीरापुर में 1155 में 906 और तोरंडी में 1008 में 800 मतदाताओं ने वोट डाला।