• Hindi News
  • सोना बस में नहीं, चांदी देकर विदा कर रहे बेटी को

सोना बस में नहीं, चांदी देकर विदा कर रहे बेटी को

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
लाडली को कन्यादान में सोने के गहने देने के बारे में सोचना भी पड़ रहा महंगा। १० साल में पांच गुना बढ़ा रेट।

भास्कर न्यूज.धमतरी

शादी-ब्याह में बेटी को सोने-चांदी के गहने देकर विदा करना हर पालक का ख्वाब होता है लेकिन पिछले दो सालों में इसकी महंगाई ही मार गई। चांदी तो नसीब हो जाती है लेकिन सोना स्वपन तक ही सीमित रह गया है। ऐसे में लाडली को अब मंगलसूत्र, झुमका आदि देने का ख्वाब तक ही लोग सीमित हो रहे हैं। सोने की महंगाई से व्यापारी भी परेशान हैं जिन्हें शादी सीजन में सबसे ज्यादा कारोबार सोने से होता था। इस बार आधा सीजन निकल गया लेकिन सोने का कारोबार १५-२० फीसदी के आंकड़े को पार नहीं कर पा रहा।

व्यापारियों की मानें तो महंगाई के कारण गरीब वर्ग तो पहले से ही दूर है, अब मध्यमवर्गीय भी हिचकने लगे हैं। पहले की अपेक्षा सोने का कारोबार ४० फीसदी भी नहीं रह गया है। अधिकांश तो अब चांदी से ही काम चला रहे हैं। अधिकांश तो अंगूठी भी चांदी की खरीद रहे हैं।

आठ गुना हो गया महंगा

२० साल पहले सोना ४५९८ रूपए तोला, १० पहले ५८५० रूपए तोला बिकने वाला पीला धातु सोना आज २९२०० रूपए हो गया है। २०१३ में सोने के भाव में रिकार्ड तेजी आई और ३५१०० रूपए तक पहुंच गया था। सोने में आई अप्रत्याशित तेजी अनेक के लिए अब खास है। गरीब एवं मध्यमवर्गीय परिवारों को १० ग्राम सोना लेने के लिए सोचना पड़ रहा है। भाव सुनकर ही कई लोग मायूस हो जाते हैं और खरीदी नहीं करते।

निवेश से दूर हुए आम लोग

१९२५ में ८९ साल पहले सोने का रेट महज १८ रूपए ७५ पैसा था। २००६ तक सोने के भाव में वृद्धि सामन्य वृद्ध हुई, लेकिन २००७ में भाव १० हजार ८०० हुआ। इसके बाद सोना में जो तेजी का दौर शुरू हुआ वह आज भी जारी है। भाव में ऐसी तेजी से व्यापारियों के साथ शौकीनों के भी होश उड़ गए। जानकारों का कहना है कि सोना में तेजी निवेशों की संख्या बढने से हुई। अधिकांश लोग अब सोने में निवेश करने लगे हंै। यही हाल जमीन का है। साल दो साल मे ही जमीन के भाव में अप्रत्याशित वृद्धि हो रही है। इसका कारण भी निवेश है।



खरीदार उच्च वर्ग

सराफा व्यवसायी हेमराज छाजेड़ का कहना है कि सोने के रेट में तेजी जरूर आई, लेकिन खरीददारी ज्यादा प्रभावित नहीं हुई। खरीददारों में बड़ी संख्या उच्च वर्गो की रहती है। आवश्यकतानुसार लोगों की खरीदी आज भी जारी है। वर्तमान में सेाने का भाव कम है, इसलिए ग्राहकों की ठीक है। १० ग्राम २४ कैरेट सोने का भाव २९२०० तथा १० ग्राम २३ कैरेट सोने का भाव २८२०० है। १० ग्राम चांदी ४३० रूपए है। होली के बाद से सोने का भाव कम हुआ है। वर्तमान मे जेवरों की खरीदी हो रही है। फंैसी ज्वेलरी की डिमांड ज्यादा है।

धमतरी. खरीददारी करती महिलाएं।

गरीबों के लिए दुर्लभ हो गया सोना, खरीदना अब हर किसी के बस की बात नहीं, उच्च वर्ग ही रुचि ले रहा