• Hindi News
  • जीवन में संत और गुरु का होना जरूरी: मैथलीशरण

जीवन में संत और गुरु का होना जरूरी: मैथलीशरण

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नगर संवाददाता-!-रायपुर
जीवन में संत और गुरुओं का होना जरूरी है। वे हमारी बुरी आदतों और दुर्गुणों से हमें अवगत कराते हैं। संत और गुरु के मार्गदर्शन के बगैर की गई भक्ति कभी भी सही दिशा में नहीं जा सकती है।
यह बातें समता कॉलोनी स्थित भीमसेन भवन में चल रही रामकिंकर प्रवचन माला के दौरान मैथलीशरण भाई ने कही। उन्होंने
श्रीराम-सबरी संवाद पर प्रकाश डालते हुए आगे कहा कि रामचरित मानस मनुष्य के जीवन का दर्शन है।
विडंबना यह है कि आज इस संसार में मनुष्य अपने भौतिक जीवनरूपी मकान की योजना तो बना रहा है, लेकिन अपने वास्तविक जीवन के उद्धार के लिए कोई योजना नहीं बना रहा है। भाई जी ने कहा कि भगवान की कथा का श्रवण करना उनका भजन करना भक्ति की दूसरी सीढ़ी है।
भक्ति के लिए अधिक प्रयास करने की जरूरत नहीं होती है। उसका फल भी स्थाई होता है, जो तीनों ही कालों में उसके साथ होता है।