• Hindi News
  • सियासत की गर्मी, वोटों के डिहाइड्रेशन का खतरा, बदल गई लाइफ स्टाइल

सियासत की गर्मी, वोटों के डिहाइड्रेशन का खतरा, बदल गई लाइफ स्टाइल

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज. रायपुर
लोकसभा चुनाव प्रचार की गहमागहमी के चलते कई प्रत्याशियों की दिनचर्या ही बदल गई है। खासकर उनका खान-पान पूरी तरह से बदल गया है। सुबह शाम लजीज खाने वाले सांसद और प्रत्याशी अब या तो एक टाइम खाना खा रहे हैं या फिर चाय पीकर ही काम चला रहे हैं। कोई तो दिनभर के लिए अपने घर से टिफिन लेकर ही निकल रहा है। कोई अपने लिए नींबू पानी लेकर चल रहा है।
सुबह से शाम तक वोटरों को रिझाने और राजनीतिक जोड़ तोड़ के कारण प्रत्याशियों को खासी मेहनत करनी पड़ रही है। पर गांव-गांव में दूर तक जाने के कारण उनको अपनी लाइफ स्टाइल ही बदलनी पड़ गई है। किसी को बाहर के खाने से परहेज है तो कोई कार्यकर्ताओं के घर जाकर खाना खा रहे हैं। होटल के खाने से तबियत खराब होने का डर बना रहता है। इस कारण जनसंपर्क के दौरान किसी कार्यकर्ता के घर जाकर खाना पसंद कर रहे हैं। एसी गाडिय़ों से उतरकर सीधे धूप में लोगों से मिलना-जुलना पड़ रहा है। टेंट के नीचे बैठकर सभाएं करनी होती है। इस दौरान डिहाइड्रेशन का खतरा बढ़ जाता है।
नींबू पानी और सादा भोजन
महासमुंद के भाजपा प्रत्याशी चंदूलाल साहू दोपहर और रात में सादा भोजन ही करते हैं। अधिकांश बार वे कार्यकर्ताओं के घर पर ही भोजन करते हैं। उन्हें स्पष्ट निर्देश हैं कि भोजन सादा हो। इसके अलावा बीच-बीच में नींबू पानी पीते हैं।




प्रत्याशियों का खान-पान प्रभावित, कोई टिफिन लेकर निकल रहा तो कोई नींबू पानी, किसी को एक टाइम के खाने से ही संतोष करना पड़ रहा है

ग्रीन टी से शुरुआत

केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री और कोरबा के कांग्रेस प्रत्याशी डॉ. चरणदास महंत सुबह की शुरुआत ग्रीन टी से करते हैं। इडली का नाश्ता करते हैं। दोपहर में एक कटोरी चावल और रात में दो-तीन रोटी लेते हैं। महंत रोज के खाने के साथ चेच भाजी, लाल भाजी और करेला खाकर डाइट मेंटेन करते हैं। बाहर कुछ भी नहीं खाते

सरोज दलिया, साहू रोटी

दुर्ग की भाजपा प्रत्याशी सरोज पांडे सुबह दलिया खाकर घर से निकलती हैं। इसके बाद दोपहर में सादा भोजन, जिसमें सूखी सब्जी और रोटी शामिल हैं, लेती हैं। कांग्रेस प्रत्याशी ताम्रध्वज साहू सुबह सूखी रोटी और सब्जी खाते हैं। इसके बाद दोपहर में सादा भोजन करते हैं। रात में भी हल्का और सादा भोजन करते हैं।

घर से टिफिन लेकर निकलते हैं महतो

कोरबा के भाजपा प्रत्याशी डॉ. बंशीलाल महतो सुबह जूस पीकर घर से निकलते हैं। टिफिन साथ रखते हैं। बाहर के खाने से परहेज करते हैं, इसलिए साथ में चना-मुर्रा रखते हैं। कार्यकर्ताओं के घर खाना हो तो सादा भोजन करते हैं। वैसे पेशे से आयुर्वेदिक चिकित्सक डॉ. महतो रोज सुबह 4.30 बजे उठ जाते हैं और प्राणायाम भी करते हैं।

सुबह पराठा, रात में भोजन नहीं करते

रायपुर से छह बार के सांसद रमेश बैस सातवीं बार सांसद बनने के लिए चुनाव लड़ रहे हैं। वे सुबह घर में दो पराठा खाते हैं, फिर जूस पीते हैं। इसके बाद दिन में जहां भी सभाएं होती हैं, वहां चाय-नाश्ता कर लेते हैं। बैस बताते हैं कि दिनभर में कई बार चाय पी लेते हैं। रात को भोजन कर ही नहीं रहे हैं।



लू से बचने पना

का सहारा



राजनांदगांव लोकसभा के भाजपा उम्मीदवार अभिषेक सिंह गर्मी से बचने और एनर्जी लेवल बनाए रखने के लिए पेय पदार्थों को ज्यादा जरूरी मानते हैं। गर्मी से बचने के लिए आम का पना लेते हैं। नींबू पानी और नारियल पानी भी लेते रहते हैं। इससे शरीर में ग्लूकोज कम नहीं होता। दिन और रात में सादा भोजन करते हैं।

अंबिकापुर - शुक्रवार को उड़ान भरने की पूरी तैयारी हो चुकी थी। हेलिकॉप्टर में नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव, पूर्व नेता प्रतिपक्ष रविंद्र चौबे अपनी सीट पर जम गए थे। एटीसी से उड़ान भरने के लिए क्लियरेंस नहीं मिला। डेढ़ घंटे इंतजार करना पड़ा। इस दौरान गर्मी से निजात पाने सबने कुल्फी का लुत्फ उठाया। दरअसल इन्हें लुंड्रा क्षेत्र में सभा लेने जाना था। उनके साथ लुंड्रा विधायक चिंतामणी व सामरी विधायक डॉ. प्रीतम राम भी थे।

चुनावी गर्मी... इंतजार में कुल्फी की ठंडक

चुनाव

प्रचार