• Hindi News
  • चार सूत्रीय मांगों को लेकर इंटक ने घेरा कांप्रेसिव बिल्डिंग, तीन घंटे बाद चर्चा, इसके बाद ही बाहर

चार सूत्रीय मांगों को लेकर इंटक ने घेरा कांप्रेसिव बिल्डिंग, तीन घंटे बाद चर्चा, इसके बाद ही बाहर निकले

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज -!-कोरबा
बालको के सीईओ रमेश नायर को इंटक नेताओं ने तीन घंटे तक उनके दफ्तर में कैद कर रखा। कंप्रेसिव बिल्डिंग के प्रवेश द्वार में चार सूत्रीय मांगों को लकर धरना पर बैठे रहे। इस दौरान किसी भी अधिकारी व कर्मचारी को बाहर निकलने या भीतर प्रवेश करने नहीं दिया गया।
तीन घंटे बाद एचआर, आईआर व प्लांट के अधिकारी हरकत में आए और चर्चा शुरू हुई। सभी मांगों पर सहमति बनने के बाद आंदोलन समाप्त हुआ। तब सीईओ अपने दफ्तर से बाहर निकल सके। धरना प्रदर्शन का नेतृत्व इंटक महासचिव जयपाल सिंह, दुष्यंत शर्मा, एसए कश्यप, रमेश जागीर, परेश बैरागी व अन्य नेताओं ने किया। सुबह ९.३० बने बड़ी संख्या में इंटक कार्यकर्ताओं के साथ पदाधिकारी कंप्रेसिव बिल्डिंग पहुंचे और नारेबाजी कर विरोध प्रदर्शन करने लगे। वे सीईओ रमेश नायर से मुलाकात कर समस्याओं के संबंध में चर्चा करना चाहते थे। लेकिन उन्हें भीतर जाने नहीं दिया गया तो प्रवेशद्वार में धरना पर बैठ गए। इस दौरान कुछ अधिकारी व कर्मचारियों ने भीतर प्रवेश करने का प्रयास किया, लेकिन इंटक नेताओं ने उन्हें जाने नहीं दिया। सीईओ को भी उन्होंने बाहर नहीं जाने देने पर अड़ गए। इस वजह से उन्हें तीन घंटे तक अपने कमरे में बंद रहना पड़ा। आंदोलनकारियों की मांग थी कि प्रबंधन मनमाने तरीके से कर्मचारियों का स्थानांतरण कर रही है। इस पर रोक लगाई जाए। रामसन नामक ठेका कंपनी ने अपने कर्मचारियों को पिछले तीन माह से वेज एंक्रीमेंट का भुगतान नहीं किया है। भुगतान व एरियर्स दिया जाए। आईटी डिपार्टमेंट का ठेका दिसंबर के बाद विप्रो नामक कंपनी को दी गई है। पूर्व ठेका कंपनी में काम करने वाले 11 तकनीशियनों को गेटपास बनाकर नहीं दिया गया। इस वजह से वे प्लांट के भीतर नहीं जा पा रहे हैं। साथ ही यहां के पेटी ठेकेदार काइजन के नाम पर गेटपास देने का प्रयास किया जा रहा है। इसका भी उन्होंने विरोध किया। विनोद यादव नामक कर्मी को रामसन ठेका कंपनी ने चोरी का आरोप लगाकर दो साल से काम से बिठा दिया है। पुलिस में एफआईआर तक दर्ज नहीं कराया गया। इसी भी इंटक नेताओं ने फर्जी कार्रवाई बताया।प्रदर्शनकारियों के कड़े रुख को भांपकर अधिकारी हरकत में आए और दोपहर बाद कंप्रेसिव बिल्डिंग के सभाकक्ष में वार्ता आयोजित की। इसमें एचआर हेड अमित जोशी, एल्यूमिनियम बिजनेस व प्लांट हेड दीपक प्रसाद, आईआर हेड विनोद नायर, कार्पोरेट हेड बीके श्रीवास्तव, प्रशासन प्रमुख एसएन सिंह, सौरभ मिश्रा व पीसी पांज उपस्थित थे। इसमें स्थानांतरण पालिसी मेटर पर चर्चा के बाद करने, वेज एंक्रीमेंट व एरियर्स भुगतान शीघ्र करने, आईटी टेक्नीशियनों के समस्याओं का समाधान व विनोद यादव की ज्वाइनिंग पर सहमति जताई। इसके बाद आंदोलन समाप्त हुआ। इसके पहले भी ठेका कंपनी के खिलाफ इंटक ने आंदोलन किय था। इसके बाद भी समस्याओं का समाधान नहीं हो पा रहा है।



॥चर्चा सार्थक रही। इंटक यूनियन के प्रतिनिधियों ने जो मांगें रखी उस पर बिंदूवार चर्चा हुई। चर्चा पर सहमति जताते हुए आंदोलन समाप्त कर दिया है।

बीके श्रीवास्तव, संवाद प्रमुख, बालको

बालको सीईओ तीन घंटे तक दफ्तर में रहे कैद