• Hindi News
  • नामकरण विवाद में कोसली पंचायत का फैसला, सांसद से मिलेगा प्रतिनिधिमंडल

नामकरण विवाद में कोसली पंचायत का फैसला, सांसद से मिलेगा प्रतिनिधिमंडल

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज-!-कोसली
कोसली में बने किसान भवन का नाम भाकली करने के विरोध में मंगलवार को कोसली में पंचायत हुईं। पंचायत में सर्वसम्मति से फैसला लिया गया कि 51 सदस्यों का एक प्रतिनिधिमंडल 8 जनवरी को सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा से मिलेगा। अगर भवन का नाम भाकली की जगह कोसली नहीं किया गया तो पंचायत के सभी सदस्य अपने पदों से इस्तीफा दे देंगे।
मंगलवार को इस विवाद को लेकर कोसली में पंचायत हुई। सरपंच देवेंद्र ने कहा कि किसान भवन भाकली के नाम किए जाने का फैसला एकदम गलत है। जब अनाज मंडी कोसली के नाम है तो भवन को भाकली से किस आधार पर जोड़ दिया गया। पंचायत में सर्वसम्मति से फैसला लिया गया कि 8 जनवरी को पंचायत की तरफ से 51 सदस्य सांसद दीपेंद्र हुड्डा से मिलेंगे। अगर उनकी मांगों को नहीं माना गया तो पंचायत इसके विरोध में इस्तीफा दे देगी। पंचायत की अध्यक्षता कर्नल विजय सिंह ने की। इस मौके पर रामदेयी पंच, सन्नो देवी, राजप्रकाश, विजय सिंह, ओमप्रकाश समेत अनेक ग्रामीण उपस्थित थे।
नामकरण में उलझा भाकली और कोसली का विकास : कोसली व भाकली, इन दो गांवों की पंचायत के बीच विवाद कोई नया नहीं है। विवाद महज नाम का होता है और विकास करोड़ों का थम जाता है। क्षेत्र में शुरू होने वाली लगभग हर नई परियोजना को लेकर इन दोनों गांवों की पंचायतें आमने सामने होती है। पहले रेलवे स्टेशन के नामकरण का विवाद और फिर उसके बाद ओवरब्रिज को लेकर बखेड़ा। इन विवादों से निपटारा हुआ तो किसान भवन और अस्पताल को लेकर मूंछों की लड़ाई शुरू हो गई।
करीब 1 करोड़ की लागत से उपमंडल में किसान भवन का निर्माण कराया गया। निर्माण के बाद सबसे पहले किसान भवन क ा नाम कोसली किसान भवन रखा गया। जुलाई २०१३ में सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने किसान भवन के शुभारंभ की तैयारी भी कर ली थी लेकिन भाकली की ग्राम पंचायत ने एक रोष पत्र भेजकर सांसद को चेतावनी दे डाली कि किसान भवन उनके गांव की जमीन पर बनकर तैयार हुआ है इसलिए इसका नामकरण भी उनके गांव के नाम पर ही होगा। इस विवाद के बाद सांसद ने भवन के उद्घाटन को स्थगित कर दिया था। उन बातों को छह माह बीत चुके हैं और अब एक बार फिर से किसान भवन का जिन्न बोतल से बाहर आया है।
उपमंडल के अधिकारियों के पास सोमवार को ही यह सूचना आई है कि सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा 9 जनवरी को किसान भवन का शुभारंभ करेंगे और किसान भवन अब भाकली किसान भवन के नाम पर होगा। इस बात की सूचना मिलते ही एक बार फिर से विवाद पनपा है और कोसली की पंचायत ने इसका विरोध करने की ठान ली है।



ग्राम पंचायत की इस्तीफे की चेतावनी