• Hindi News
  • कवि सम्मेलन में कवियों ने दिखाए कविता के विभिन्न रूप

कवि सम्मेलन में कवियों ने दिखाए कविता के विभिन्न रूप

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज - सोनीपत
जैन मिलन सोनीपत द्वारा भगवान महावीर जयंती महोत्सव पर मिशन रोड स्थित दिगंबर जैन मंदिर हास्य कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। जिसमें कवियों ने हास्य की फव्वारों से ही नेताओं को भिगोने के साथ सामाजिक चेतना को जागृत करने का भी प्रयास किया। कवियों की रचनाओं का श्रोताओं ने खूब आनंद लिया। इससे पूर्व कार्यक्रम की शुरुआत भगवान महावीर का चित्र अनावरण करते हुए सुरेश कुमार जैन नरेश जैन ने की। इस अवसर पर मुख्यातिथि विधायक कविता जैन व राजीव जैन रहे जबकि कार्यक्रम की अध्यक्षता आनंद जैन व दीपक जैन ने की। इस अवसर पर कार्यक्रम संयोजक मुकेश जैन ने बताया कि भगवान महावीर जयंती का महोत्सव 13 अप्रैल तक चलेगा। 13 अप्रैल रविवार को भव्य रथ यात्रा का आयोजन किया जाएगा। इस अवसर पर जगदीश प्रसाद जैन, जैन मिलन के अध्यक्ष विनोद जैन, राजकुमार जैन, भूषण जैन, आनंद जैन, सतपाल अहलावत, संजय सिंगला, जयवीर गहलावत, सुरेश जैन, आदि मौजूद थे।
कवियों ने कुछ यूं चलाए अपने व्यंग बाण : रसिक गुप्ता ने कहा कि ‘मैने अपने मकान मालिक से कहा, एक दिन लोग कहा करेंगे कि तुम्हारे मकान में एक बड़ा कवि रसिक गुप्ता रहता था, गुरू उस दिन तू पूरे मोहल्ले में छा जाएगा, वो बोला अगर शाम तक किराया नहीं दिया, तो वो दिन आज ही आ जाएगा। चिराग जैन ने कहा कि जो लक्ष्मी के पीछे भागे, वो अर्थवान हो जाता है लक्ष्मी जिसके पीछे भागे वो वद्र्धमान हो जाता है।
शंभू शिखर ने एक बार फिर केजरीवाल पर व्ंयग कसते हुए बोले : जो भी कहूंगा सच ही नए साल की कसम, ताजा बना दामाद हूं, ससुराल की कसम महंगाई का मारा हूं, रोटी दाल की कसम मैं आम आदमी हूं केजरीवाल की कसम।
पदमिनी शर्मा ने मां की महिमा का बखान करते हुए कहा : खुद तपी मुझको मगर, आंचल की छाया में रखा, सब अभावों को छिपा, भावों की माया में रखा मां तेरे संघर्ष मेरी अर्चना के पात्र है, धन्य तूं नौ मास मुझको, अपनी काया में रखा।
विनम विनम्र स्वतंत्रता सेनानियों को अपनी रचना समर्पित करते हुए कहा : ‘जिऊं में राष्ट्र के हित में कि जब तक सांस बाकी है। बनूं शेखर, भगत, बिस्मिल यही विश्वास बाकी है शत्रु यदि अस्मिता छू ले तो जीना व्यर्थ है मेरा, तेरा गौरव रहे अक्षत यही अभिलाष बाकी है।
प्रवीण शुक्ल दिल्ली ने कहा : ऐश आराम हरे, स्वामी ऐश आराम हरे श्वेत केश में तुमने संत वेश में तुमनेअदभुत काम हरे ऐश आराम हरे, ऐश आराम हरे।



सोनीपत. मिशन रोड स्थित दिगंबर जैन मंदिर में हास्य कवि सम्मेलन में प्रस्तुति देता एक कवि।