• Hindi News
  • सड़कों पर दुकानदारों का कब्जा, लोग परेशान

सड़कों पर दुकानदारों का कब्जा, लोग परेशान

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज - चरखी दादरी
नगर परिषद के कर्मचारियों की लापरवाही से शहर की सड़कें लगातार सिकुड़ती जा रही हैं। दुकानदारों ने अपनी दुकानों के सामने करीब पांच से 10 फुट बाहर तक सामान रखा हुआ है। वहीं नगर परिषद कार्रवाई के नाम पर दुकानदारों को सामान उठाने की नसीहत देकर चले जाते हैं। नप कर्मचारियों के सुस्त रवैये से दुकानदारों के हौंसले काफी बुलंद हो चुके हैं। जिन्होंने सड़क पर ही कब्जा कर सामान रख लिया है। इसके साथ ही सामान खरीदने के लिए आने वाले ग्राहकों को भी अपना वाहन सड़क पर ही खड़ा करना पड़ता है, जिससे जाम की स्थिति बनी रहती है।
शहर के दुकानदारों पर शायद प्रशासन के नियम कोई मायने ही नहीं रखते हैं। दुकानदारों ने नगर परिषद के नियमों को ठेंगा दिखा दुकानों के सामने लगभग 5 से 10 फुट सड़क को घेर सामान रख लिया है। सड़क के दोनों ही तरफ अतिक्रमण होने के कारण सड़क सिकुड़ कर आधी रह गई है। वहीं नप अधिकारी ऐसे दुकानदारों पर कार्रवाई तक नहीं कर रहे हैं।
यहां सबसे ज्यादा अतिक्रमण
शहर में अगर अतिक्रमण की बात की जाए तो सबसे पहला नाम काठमंडी का आता है। जहां दुकानदारों ने सड़क को ही दुकान बना लिया है। करीब 10 से 20 फुट जगह पर सभी दुकानदारों ने कब्जा किया हुआ है। इसके साथ ही परशुराम चौक से लेकर लाजपत राय चौक, पुराना बस स्टैंड से रेलवे रोड, परशुराम चौक से बस स्टैंड व परशुराम चौक से लेकर झाडू सिंह चौक तक लोगों ने सड़क पर कब्जा कर सामान रख लिया है। जिसके कारण शहर की सड़क घटकर आधी रह गई हैं।
नगर परिषद की दुकानों के सामने ही अतिक्रमण
यहां एक खास बात ये भी है कि दूसरे दुकानदारों को तो नगर परिषद अधिकारी और कर्मचारी सामान बाहर न रखने की नसीहत दे देते हैं। लेकिन पुराना बस स्टैंड स्थित जहां उन्होंने अपनी दुकानों को निर्माण करके किराए पर दिया गया हैं वहीं पर दुकानदारों ने 10 10 फुट पर चबूतरे बनाकर कब्जा किया हुआ है। इस ओर ये अधिकारी कभी ध्यान नहीं देते।
कार्रवाई सिर्फ अभियान
नगर परिषद के अधिकारियों के अनुसार वह बार बार अतिक्रमण को हटवाने के लिए अभियान चलाते रहते हैं। अगर नप अधिकारियों की कार्रवाई देखनी है तो शहर की किसी भी सड़क पर जाकर देख सकते हैं खुद ही पता लगता है कि अधिकारियों की बातों में कितना सच है।



॥हम समय समय पर अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाते रहते हैं। सभी कर्मचारियों की चुनावों में ड्यूटियां लगी हुई थी। अगर दुकानदारों ने सड़क पर अतिक्रमण किया हुआ है तो तुरंत प्रभाव से कार्रवाई की जाएगी।ञ्जञ्ज

विजय शर्मा, सचिव, नगर परिषद

किराये पर दुकान के आगे लगवाते रेहडिय़ां

शहर के दुकानदार जितना खुद अपनी दुकान का किराया देते हैं उतना ही किराया ये रेहड़ी चालक से वसूलते हैं। कुछ दुकानदारों ने अपना सामान दुकान के सामने रखा हुआ है तो कुछ दुकानदारों ने अपनी दुकान के सामने फुटपाथ पर रेहडिय़ा लगवा दी हैं। दुकानों के सामने रेहड़ी लगवाने के बदले दुकानदार रेहड़ी संचालक से दुकान के बराबर ही किराया वसूलते हैं। इससे दुकानदार दोनों हाथों में लड्डू रख मोटा मुनाफा कमा रहे हैं।

शहर के दुकानदारों द्वारा दुकानों के सामने सामान रख किए गए अतिक्रमण के चलते शहर की ज्यादातर सड़कें सिकुड़ गई हैं। जिसके चलते बाजार में खरीददारी करने के लिए आने वाले वाहन चालकों को अपना वाहन भी फुटपाथ पर जगह नहीं मिलने के कारण सड़क पर ही खड़ा करना पड़ता है। जिससे पूरे दिन जाम कि स्थिति बनी रहती है। अगर नगर परिषद सड़क से अतिक्रमण कटवा देती है तो जाम भी नहीं लगेगा और सड़कें भी खुली खुली दिखाई देंगी।

वाहन चालकों को रहीं हैं दिक्कतें