• Hindi News
  • पास बनवाने के लिए लोगों को लगाने पड़ रहे चक्कर

पास बनवाने के लिए लोगों को लगाने पड़ रहे चक्कर

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज -!- जगाधरी वर्कशाप
अक्सर यह सुनने में आता है कि सरकारी ऑफिस में किसी व्यक्ति का एक चक्कर में काम नहीं होता। उसे कई बार चक्कर काटने पड़ते हैं। कुछ सरकारी ऑफिस ऐसे भी हैं, जिन्होंने हर तरह के दस्तावेज जमा कराने के लिए पहले से ही बोर्ड या फाइल पर लिखकर रखा हुआ है। मगर हरियाणा रोडवेज के यमुनानगर डिपो में इस प्रकार का कोई बोर्ड नहीं लगवाया गया है। यही वजह है कि लोगों को पास बनवाने के लिए चक्कर लगाने पड़ रहे हैं।
स्कूल टीचर ललिता रानी ने बताया कि वह कई वर्ष से अपना पास बनवा रही है। इस बार उसे यह कहकर टाल दिया गया कि उसके पास ईपीएफ नंबर नहीं है। ललिता ने बताया कि कई सालों से वह इसके बिना ही पास बनवा रही है। इस बार उसकी जरूरत क्यों आन पड़ी। इसके बार फरमान जारी किया गया कि अपनी पे स्लिप लेकर आए। उसके बाद भी उसे टाल दिया गया। उसने किसी प्रकार से अधिकारियों से साइन करवाकर पास बनवा लिया। ललिता कहती है कि छोटे से काम के लिए उसे कई चक्कर काटने पड़े।
आसान प्रक्रिया होनी चाहिए
इधर स्टूडेंट रोहित शर्मा, विकास पुनिया, रविंद्र सिंह व संजय कोहली का कहना है कि रोडवेज में कई कर्मचारी तो ऐसे हैं जिनका बिहेवियर ठीक नहीं है। वह ऐसे बात करते हैं जैसे किसी ने अपराध कर दिया हो। सभी का कहना है कि पास बनवाने के लिए कुछ आसान प्रक्रिया होनी चाहिए। जिससे लोगों को परेशानी न उठानी पड़े। जब किसी स्टूडेंट या किसी टीचर के साथ इस बर्ताव ठीक नहीं है।
कल ही लग जाएंगे बोर्ड
इस बारे में जब यमुनानगर डिपो के जीएम रविंद्र पाठक से बात की गई तो उन्होंने कहा कि यह सुझाव बहुत ही अच्छा है। नियम बोर्ड पर होने चाहिए। वह भी कई दिनों से सोच ही रहे थे। वे एक दो दिन में ही बोर्ड लगवा देंगे। जिसमें स्टूडेंट्स और अन्य पास के लिए क्या क्या औपचारिकताएं है, सारी जानकारी दी जाएगी। उनका कहना है कि यदि कोई भी कर्मचारी किसी के साथ मिसबिहेव करता है तो वह सीधे उनके पास शिकायत कर सकते हैं। तुरंत कार्रवाई की जाएगी।