• Hindi News
  • स्टूडेंट एक्सचेंज को दिया जाएगा बढ़ावा

स्टूडेंट एक्सचेंज को दिया जाएगा बढ़ावा

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज - शिमला
एपीजी यूनिवर्सिटी में शिक्षा के स्तर को देखने और स्टूडेंट एक्सचेंज प्रोग्राम को बढ़ावा देने के लिए शनिवार को यूनिवर्सिटी में पांच देशों के हाई कमिश्नर और सचिवों ने दौरा किया। इस मौके पर यूनिवर्सिटी प्रशासन की ओर से सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश किए गए। कार्यक्रम के दौरान यूनिवर्सिटी प्रशासन ने केन्या, नामीबिया, रावान्डा, सेश्यलेस और एरिट्रया देशों के प्रतिनिधियों को टोपी और फुल मालाएं पहनाकर स्वागत किया। इसके बाद विदेशी मेहमानों ने युनिवर्सिटी कैंपस के सभागार, लाइब्रेरी रूम, क्लासरूम, हास्टल और विभिन्न विभागों का दौरा किया।
नाटी की विशेष प्रस्तुति
सांस्कृतिक कार्यक्रम के दौरान यूनिवर्सिटी के छात्रों ने पंजाबी भांगड़ा, पहाड़ी नाटी और हिंदी गानों पर डांस भी किया। इस मौके पर प्रदेश की संस्कृति को दर्शाने के लिए विशेष रूप से पहाड़ी नाटी का आयोजन किया गया। जिसमें छात्रों ने सासुए नाही करनी शादी और रोहड़ू जाणा मेरी आमिए पर प्रस्तुति दिया। इसके अलावा रोबिन और शुभम शर्मा ने ड्यूट सॉन्ग पेश किया।
ये आए विदेशी मेहमान
केन्या के उच्चायुक्त लोरेंस वेच, नामीबिया के उच्चायुक्त पीयूश देवस्की, नामीबिया की प्रथम सचिव एलिज़ाबेथ वेन्हीस, रवांडा के उच्चायुक्त एरनेस्ट रवामयुकाने,सेश्यलेस के द्वितीय सचिव पेत्सी मौस्ताष, केन्या के द्वितीय सचिव टेकंस्टे जुडियेथ नजुनिया, एरिट्रीया के राजनीतिक काउंसलर जेम्यु काउंसलर एरिट्रिया मौजूद रहे।
आईटी की शिक्षा अच्छी है
नामीबिया के उच्चायुक्त पीयूष देवस्की ने बताया कि भारत में आईटी और मेनेजमेंट की शिक्षा उच्च स्तर की प्रदान की जाती है, और इन दो क्षेत्रों की शिक्षा प्राप्त करने के लिए उनके देश के बहुत से छात्र प्रतिवर्ष चेन्नई, बैंगलोर, कोलकाता और दिल्ली में शिक्षा ग्रहण करने आते हैं। शिमला के बारे में उन्होंने क हा कि यहां पर पढाई के लिए बहुत अच्छा माहौल है और एपीजी यूनिवर्सिटी में पहले भी उनके देश के कुछ छात्र पढाई कर रहें हैं व शिक्षा प्राप्त करने के लिए प्रेरित करेंगे।
मेयर और डिप्टी मेयर से मिले
नामीबिया, केन्या, रवांडा और एरिट्रिया से आए उच्चायुक्त शाम के समय नगर निगम शिमला के मेयर संजय चौहान और डिप्टी मेयर टिकेंद्र पंवर से मिले। उन्होंने अर्बन अफेयर और अन्य मामलों के बारे में चर्चा की। डिप्टी मेयर टिकेंद्र पंवर ने बताया कि विदेशी उच्चायुक्त के साथ ट्रांसपोर्ट सिस्टम और अन्य मामलों के बारे में जानकारी ली गई।



३०० विदेशी छात्रों की करवाई जाएगी एडमिशन

एपीजी यूनिवर्सिटी कुलपति प्रो देवेन्द्र पाठक ने बताया कि अभी उनकी यूनिवर्सिटी में 17 विदेशी छात्र पढ़ रहे हैं। इसके अलावा उन्होंने कहा कि यूनिवर्सिटी में छात्रों को विश्वस्तरीय सुविधाएं दी जा रही है। उन्होंने कहा कि अबकि बार युनिवर्सिटी में तीन सौ से अधिक छात्रों की एडमिशन करवाने का लक्ष्य रखा गया है। कार्यक्रम के अंत में विदेशों से आए मेहमानों ने यूनिवर्सिटी कैंपस में पौधरोपण किया।