• Hindi News
  • दुष्कर्म के विरोध में साढ़े तीन घंटे सड़क जाम

दुष्कर्म के विरोध में साढ़े तीन घंटे सड़क जाम

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
लोहरदगा -!- किस्को में मैट्रिक छात्रा से हुए दुष्कर्म के मामले में विरोध और आरोपी नासे अंसारी की गिरफ्तारी की मांग को लेकर प्रदर्शन के स्वर तेज होते जा रहे हैं। मंगलवार दोपहर एक बजे सैकड़ों की संख्या में किस्को क्षेत्र के ग्रामीणों ने शहर के कचहरी मोड़ में लोहरदगा गुमला व रांची मुख्य पथ को जाम कर दिया। जाम साढ़े तीन घंटे तक था। लोगों की नाराजगी आरोपी की गिरफ्तारी ने देरी को लेकर इस कदर हावी थी कि वे पुलिस अथवा प्रशासन की कोई बात सुनने को तैयार नहीं है।
हाथों में बैनर और तख्तियां लिए सभी आरोपी की गिरफ्तारी और उसके जघन्य अपराध के लिए उसे फांसी देने की मांग दुहरा रहे थे। यहां विरोध प्रदर्शक कर रहे लोगों में प्रार्थना सभा के प्रदेश कोषाध्यक्ष राधा तिर्की, केंद्रीय सचिव सोमे उरांव, जेवीएम नेता पवन तिग्गा, मुखिया पुनिया उरांव, जगेश्वर उरांव, गुलचंद उरांव, केश्वर उरांव, धनेश्वर उरांव, सहदेव उरांव, हरि महली, सीताराम उरांव, बुधवा उरांव, दधि उरांव आदि भी शामिल थे। सीओ महेंद्र कुमार व सदर थाना प्रभारी बीके सिंह ग्रामीणों को शुरू से समझाने में जुटे थे। लगभग चार बजे स्थानीय विधायक कमल किशोर भगत भी ग्रामीणों के समर्थन में वहां पहुंचे।
उन्होंने एसडीपीओ प्रभात रंजन बरवार सहित अधिकारियों की उपस्थिति में वार्ता करायी। ग्रामीणों ने दो दिनों की मोहलत देने पर सहमति जतायी। लगभग साढ़े चार बजे जाम खुलना शुरू हुआ। विधायक के साथ लाल गुड्डू नाथ शाहदेव, कलीम खां, ओम भारती आदि भी पहुंचे थे। इधर किस्को अंजुमन इस्लामिया ने मंगलवार को सुबह 10 बजे मदरसा मिसबाहुल उलूम में मुस्लिम समाज के गणमान्य लोगों के साथ बैठक कर आरोपी और उसके परिवार का सामाजिक बहिष्कार कर दिया। बैठक अंजुमन सदर अख्तर अंसारी की अध्यक्षता में हुई। इसमें सबसे पहले घटना की कड़े शब्दों में निंदा की गई। कहा गया कि नासे पूर्व में भी कई तरह की घटनाओं मे लिप्त था। ग्रामीणों और समाज के लोगों द्वारा समझाने पर भी वह नहीं सुधरा। बैठक में निर्णय लिया गया कि समाज पुलिस को नासे की गिरफ्तारी में हर संभव मदद करेगा। सामाजिक बहिष्कार के निर्णय के तहत नासे और उसके परिवार के किसी भी सदस्य के मरनी जीनी और शादी ब्याह सहित कार्यक्रमों में समाज के लोग शामिल नहीं होंगे।
इन लोगों को किसी सामाजिक कार्यक्रम में बुलाया भी नहीं जाएगा। अंजुमन के लोगों ने सभी से अपील की है कि नासे की सूचना अंजुमन अथवा पुलिस प्रशासन को देकर उसे गिरफ्तार कराएं। मौके पर सामुल अंसारी, नुसरत, नईम जकरिया, कुदूस अंसारी, कबीर अंसारी, रफीक अंसारी, युनूस, सरफुल अंसारी, समीद अंसारी, रोजामत, शमीम, रेयाजत, शमीम, मो फिरोज, नेजामुल, दिलबहार, सयुब अंसारी, सेराज खां, हा खुरसीद, इसाक अंसारी आदि उपस्थित थे।