• Hindi News
  • एक दूसरे के रास्ते पर अतिक्रमण न हो

एक-दूसरे के रास्ते पर अतिक्रमण न हो

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भोपालवासियों की सुविधा के लिए शुरू की गई माय बस परेशानी का सबब बनती जा रही है। लोक परिवहन की दृष्टि से तो यह एक अच्छी पहल है, लेकिन इसके कॉरिडोर और उसे सहेजने के लिए लगाए गए डेलीनेटर की वजह से आए दिन हादसे हो रहे हैं। होशंगाबाद रोड पर कॉरिडोर के कारण ट्रैफिक बाधित होता है। बैरागढ़ से मिसरोद के बीच कई जगह ऐसी स्थिति निर्मित हो जाती है कि माय बस की वजह से पूरे मार्ग की यातायात व्यवस्था चरमरा जाती है। मजेदार बात तो यह है कि माय बस के लिए बनाए गए बीआरटीएस कॉरिडोर में अन्य वाहनों के आने-जाने पर पाबंदी है। मगर प्राइवेट मिनी बसें धड़ल्ले से कॉरिडोर में दौड़ती देखी जा सकती हैं। इन मिनी बसों के कारण माय बस को अपना रास्ता बदलना पड़ता है। इतना ही नहीं उन्हें अपने बस स्टॉप छोड़ आगे-पीछे बस रोकनी पड़ती है। वाहन चालकों का दर्द यह है कि जब कॉरिडोर में अन्य वाहनों के चलने पर पाबंदी है तो माय बस के लिए भी कॉरिडोर के बाहर चलने पर रोक लगनी चाहिए। कॉरिडोर में वाहन चलाते पकड़ाए चालकों का चालान बन सकता है तो कॉरिडोर से बाहर माय बस के चलने पर भी चालान बनना चाहिए, ताकि एक-दूसरे के मार्ग पर अतिक्रमण न हो। ञ्चखबरची