• Hindi News
  • 45 लाख की चोरी के मामले में आठ कर्मचारी शंका के घेरे में

45 लाख की चोरी के मामले में आठ कर्मचारी शंका के घेरे में

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर संवाददाता-!-इंदौर
महाकोष हाउस की पांचवीं मंजिल पर हुई 45 लाख की चोरी में पुलिस कंपनी के कर्मचारियों की घेराबंदी में लगी है। मंगलवार को कैशियर व स्टाफ के आठ लोगों से आठ घंटे तक ऑफिस में ही पूछताछ की गई। पुलिस को पता चला है कि एक मजदूर भी ओडिशा जाने का कहकर लापता हुआ है। पुलिस बीमा कंपनी के अधिकारियों से भी जानकारी लेगी।
टीआई मनोज रत्नाकर सुबह 10.30 बजे महाकोष हाउस पहुंचे और शाम करीब 7 बजे बाहर निकले। इस दौरान बीच में एएसपी रामजी श्रीवास्तव भी वहां पहुंचे। पुलिस ने कैशियर, वार्ड बॉय, स्वीपर सहित आठ लोगों के विस्तृत बयान लिए। अब उनकी तस्दीक की जा रही है। कंपनी के अधिकारियों ने पुलिस को बताया था कि उन्हें सोमवार को जमीन के एडवांस के लिए 45 लाख का पेमेंट करना था। इसके लिए शनिवार को रुचि सोया से 35 लाख और ओराइजन बिल्डिंग स्थित दफ्तर से 10 लाख रुपए बुलवाए थे। पुलिस ने सोमवार रात को ही ब्रोकर से फोन पर सौदे के बारे में पूछा था लेकिन उसने इसकी जानकारी होने से इंकार कर दिया था। मंगलवार को उस ब्रोकर को महाकोष हाउस बुलाया गया। बयान में उसने बताया जमीन की बात जरूर हुई थी लेकिन सोमवार का दिन तय नहीं था। इसके अलावा कंपनी वालों ने इस संबंध में कोई बात नहीं की थी।




गांव के लिए निकले मजदूर पर शंका



पुलिस ने प्लास्टर का काम कर रही कंपनी के मजदूरों की जानकारी निकाली तो पता चला तीर्था नामक मजदूर ओडिशा जाने का कहकर निकला है। कुछ लोगों ने उसके 24 दिसंबर को यहां से जाने का कहा जबकि कुछ ने बताया वह शनिवार रात को ही गया है। पुलिस उसकी भी जानकारी निकाल रही है।

बीस लाख का बीमा था

पूछताछ में खुलासा हुआ कंपनी ने बीस लाख की राशि का बीमा करवा रखा है। इस संबंध में बुधवार को बीमा कंपनी से जानकारी ली जाएगी।