• Hindi News
  • जनजाति समाज के लिए करेंगे संघर्ष

जनजाति समाज के लिए करेंगे संघर्ष

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर संवाददाता-!-महेश्वर
कुछ लोग गरीबों का हक छिन रहे हैं। आज भी आदिवासी का जीवन दयनीय है। सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिल रहा है। इसके लिए जनजाति रक्षा मंच संघर्ष करेगा। जिनका वर्षों से जमीन पर कब्जा है उन्हें पावती दिलाई जाएगी। यह बात मंगलवार यमुना कुंज परिसर में जनजाति हित रक्षा मंच प्रांत प्रमुख राजेंद्रसिंह राजपूत ने कही। कार्यक्रम के बाद तहसील कार्यालय तक रैली निकाली गई। तहसील कार्यालय में रीडर वासुदेव पाटीदार को मुख्यमंत्री के नाम सौंपे ज्ञापन में कही। उन्होंने कहा वनवासी क्षेत्र में रहने वाली वनवासी बंधुओं की समस्याओं को वनवासी ग्रामीण कृषि मजदूर महासंघ इकाई व अकिल भारतीय ग्रामीण मजदूर महासंघ ज्ञापन से ध्यान दिलाया है। इसमें गुजर मोहन, सिरस्या, सिरस्या माल, नवरंगपुरा, आवलिया, बेकल्या के 300 हितग्राहियों के आवेदन वनाधिकार के लिए जमा थे। इसमें 111 लोगों को वनाधिकार मिला है। शेष कार्रवाई में है। ओंकारेश्वर परियोजना अंतर्गत वनवासी क्षेत्र में नहरों के लिए वनवासियों की जमीन अधिग्रहित है। उन्हें गाइड लाइन अनुसार मुआवजा नहीं मिला है। कुछ हितग्राहियों के बीपीएल के कार्ड बने हैं। ग्राम पंचायत में निर्माण श्रमिकों के पंजीयन हो. वृद्धावस्था, नि:शक्त, सामाजिक सुरक्षा की पेंशन मिले।
वनविनाश और प्रदूषण रोके
श्री राजपूत ने कहा वनों का विनाश रोके। वर्तमान में वनों को काटकर मकान बनाए जा रहे हैं। साथ ही वनों को लगातार दोहन किया जा रहा है। इससे पर्यावरण बिगडऩे लगा है। औद्योगिक लगाने से भी प्रदूषण हो रहा है। इसे रोका जाए। वनवासी क्षेत्र में सस्ते अनाज की दुकानों बढ़ाई जाए।महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना का लाभ मजदूर परिवारों को मिले। इस दौरान जिला पंचायत उपाध्यक्ष प्रेमबाई गिरवाल, मंच संयोजक रतनसिंह रंधावा, प्रांतीय सदस्य सुरेश पाटीदार, राजेंद्र यादव, संतोष ठाकुर, संतोष शर्मा व दिलीप पाटीदार आदि मौजूद थे। संचालन आशीष मेहता ने किया।




जनजाति हित रक्षा मंच के प्रांत प्रमुख राजेंद्रसिंह राजपूत के नेतृत्व में सौंपा ज्ञापन