विज्ञापन

अपने नाम के अनुरूप सरल थे श्रीकृष्ण सरल

Dainik Bhaskar

Sep 18, 2013, 02:10 PM IST

Guna News - कार्यालय संवाददाता-!- अशोकनगरनगर की माटी में जन्में श्री कृष्ण सरल रचनाकार होने के अलावा एक बहुत बड़े हृदय के...

अपने नाम के अनुरूप सरल थे श्रीकृष्ण सरल
  • comment
कार्यालय संवाददाता-!- अशोकनगर
नगर की माटी में जन्में श्री कृष्ण सरल रचनाकार होने के अलावा एक बहुत बड़े हृदय के मनुष्य थे। घर के संसाधनों को बेच कर उन्होंने साहित्य की रचना की। हिंदी साहित्य में जितना अधिक साहित्य श्री कृष्ण सरल लिख कर गए हैं वह किसी और कवि के बस की बात नहीं।
उक्त बात साहित्य अकादमी के द्वारा आयोजित दो दिवसीय श्रीकृष्ण सरल प्रसंग के मौके पर साहित्य अकादमी के निदेशक प्रो त्रिभुवननाथ शुक्ल ने कार्यक्रम के दौरान कही। उन्होंने कहा कि श्रीकृष्ण सरल प्रचार प्रसार से दूर थे। अपने साहित्य को आमजन तक पहुंचाने के लिए उन्होंने ठेले पर रखकर अपना साहित्य बेचा। महान शहीदों के ऊपर इतने काव्य लिखने वाले देश के वे एक मात्र साहित्यकार हैं।
इस मौके पर डा. हरीमोहन बुधौलिया उ'जैन, डा. रूकमणि तिवारी ग्वालियर, डा. कमालिनी पशीने अमरावती, प्रो एसएन सक्सेना ने भी श्रीकृष्ण सरल के जीवन पर विस्तार से प्रकाश डालते हुए उनके काव्य संग्रह की रचनाओं के बारे में जानकारी दी। कार्यक्रम की अध्यक्षता पं बाबूलाल शर्मा ने की। इस मौके पर नपा सीएमओ ओपी झा के द्वारा कार्यक्रम पर प्रकाश डाला गया। संचालन डा. रामसेवक सोनी ने किया।

X
अपने नाम के अनुरूप सरल थे श्रीकृष्ण सरल
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन