• Hindi News
  • जिला अस्पताल के सौंदर्यीकरण के लिए सवा करोड़ खर्च होंगे

जिला अस्पताल के सौंदर्यीकरण के लिए सवा करोड़ खर्च होंगे

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर संवाददाता-!- दमोह
जिला अस्पताल के रिनोवेशन का कार्य और नए निर्माण के बाद अब यहां की सूरत बदलना शुरू हो गई हैं। अत्याधुनिक और सुविधायुक्त अस्पताल भवन निर्माण का कार्य 75 प्रतिशत तक पूरा हो गया है। शेष काम फरवरी माह तक पूरा हो जाएगा। करीब चार करोड़ रुपए की लागत से हो रहे निर्माण कार्य के बाद जिला अस्पताल भवन की आंतरिक सुंदरता बढ़ती जा रही है। वहीं बाहरी आवरण को सुधारने के लिए लोक निर्माण विभाग ने भी करीब सवा करोड़ रुपए की कार्ययोजना बनाई है। योजना को मंजूरी मिल गई है और निर्माण कार्य शुरू हो गए हैं।
निर्माण के पहले ही अस्पताल भवन ने ली भव्यता
जिला अस्पताल भवन में चल रहे निर्माण अभी 75 प्रतिशत तक पूरे हुए हैं, लेकिन काम पूरा होने से पहले ही अस्पताल भवन भव्य, आधुनिकतम और सुंदर दिखने लगा है। ग्रेनाइट और टॉल्स लगाकर खास ले-आउट के साथ करीब चार करोड़ की लागत से जिला अस्पताल भवन को नए सिरे से तैयार किया जा रहा है। कलेक्टर ने 15 फरवरी तक निर्माण कार्य पूरा करने के निर्देश दिए हैं। पीआईयू के एसडीओ केसी अग्रवाल ने बताया कि फरवरी माह तक अस्पताल के निर्माण कार्य पूरे हो जाएंगे। अब तक 75 प्रतिशत काम पूरा हो चुका है। भवन बनने के बाद मरीजों को अस्पताल आने पर सुखद अहसास होगा।
पीडब्ल्यूडी कराएगा एक करोड़ 37 लाख के काम
लोक निर्माण विभाग के ईई अनिल कुमार सिंह ने बताया कि जिला अस्पताल परिसर में 36 लाख रुपए की लागत से ई एवं एफ टाइप के दो नए रिहायशी क्वाटर्स, 18 लाख 65 हजार रुपए की लागत से वैक्सीन स्टोरेज सेंटर, 18 लाख 43 हजार रुपए की लागत से गेस्ट रूम, 11 लाख 42 हजार रुपए की लागत से जिला अस्पताल परिसर के सामने पेवर ब्लाक, 10 लाख 75 हजार रुपए की लागत से ड्रेनेज ((विथ कवर)), 4 लाख 25 हजार रुपए की लागत से शौचालयों, एक लाख 32 हजार रुपए की लागत से जिला अस्पताल का आर्कगेट, 83 हजार रुपए की लागत से रिप्लास्टिनरी, 15 लाख रुपए की लागत से किचिन, 15 लाख रुपए की लागत से स्टोर रूम, 4 लाख 50 हजार रुपए की लागत से एसएनबीसीयू ((सिक न्यू बोर्न केयर यूनिट)) अर्थात जन्मजात बीमार बच्चे की गहन चिकित्सा इकाई की छत की मरम्मत का कार्य एवं एक लाख 47 हजार रुपए की लागत से लाउंड्री का निर्माण कार्य कराया जा रहा है। इन निर्माण कार्यों के हो जाने के बाद जिला अस्पताल की तस्वीर पूरी तरह से बदल जाएगी।



निर्माण के पहले ही अस्पताल भवन ने ली भव्यता

जिला अस्पताल भवन में चल रहे निर्माण अभी 75 प्रतिशत तक पूरे हुए हैं, लेकिन काम पूरा होने से पहले ही अस्पताल भवन भव्य, आधुनिकतम और सुंदर दिखने लगा है। ग्रेनाइट और टॉल्स लगाकर खास ले-आउट के साथ करीब चार करोड़ की लागत से जिला अस्पताल भवन को नए सिरे से तैयार किया जा रहा है। कलेक्टर ने 15 फरवरी तक निर्माण कार्य पूरा करने के निर्देश दिए हैं। पीआईयू के एसडीओ केसी अग्रवाल ने बताया कि फरवरी माह तक अस्पताल के निर्माण कार्य पूरे हो जाएंगे। अब तक 75 प्रतिशत काम पूरा हो चुका है। भवन बनने के बाद मरीजों को अस्पताल आने पर सुखद अहसास होगा।



पीडब्ल्यूडी कराएगा एक करोड़ 37 लाख के काम

लोक निर्माण विभाग के ईई अनिल कुमार सिंह ने बताया कि जिला अस्पताल परिसर में 36 लाख रुपए की लागत से ई एवं एफ टाइप के दो नए रिहायशी क्वाटर्स, 18 लाख 65 हजार रुपए की लागत से वैक्सीन स्टोरेज सेंटर, 18 लाख 43 हजार रुपए की लागत से गेस्ट रूम, 11 लाख 42 हजार रुपए की लागत से जिला अस्पताल परिसर के सामने पेवर ब्लाक, 10 लाख 75 हजार रुपए की लागत से ड्रेनेज ((विथ कवर)), 4 लाख 25 हजार रुपए की लागत से शौचालयों, एक लाख 32 हजार रुपए की लागत से जिला अस्पताल का आर्कगेट, 83 हजार रुपए की लागत से रिप्लास्टिनरी, 15 लाख रुपए की लागत से किचिन, 15 लाख रुपए की लागत से स्टोर रूम, 4 लाख 50 हजार रुपए की लागत से एसएनबीसीयू ((सिक न्यू बोर्न केयर यूनिट)) अर्थात जन्मजात बीमार बच्चे की गहन चिकित्सा इकाई की छत की मरम्मत का कार्य एवं एक लाख 47 हजार रुपए की लागत से लाउंड्री का निर्माण कार्य कराया जा रहा है। इन निर्माण कार्यों के हो जाने के बाद जिला अस्पताल की तस्वीर पूरी तरह से बदल जाएगी।