• Hindi News
  • भनक लगते ही रात में गायब हो गई रेत

भनक लगते ही रात में गायब हो गई रेत

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर संवाददाता। टीकमगढ़
खनिज विभाग ने शहर में अवैध रूप से डंप होने वाले रेत को पकडऩे के लिए विधिवत खाका तैयार किया, मगर इससे पहले ही माफियों को भनक लग गई और उन्होंने मौके से रेत गायब कर दी। हैरानी की बात यह है कि रेत का अवैध डंप होने का खाका खनिज विभाग ने स्वयं बनाकर एसडीएम एमएस मालवीय को दिया था, मगर इस बीच स्टाफ के ही किसी मुखबिर ने कार्रवाई की सूचना माफियों को दे दी और उन्होंने रेत गायब कर दी।
खनिज विभाग की ओर से अवैध रेत माफियों के खिलाफ कार्रवाई बड़े स्तर पर नहीं की जा रही थी। जबकि विभाग को पहले से पता था कि शहर में किन-किन स्थानों पर रेत डंप करके रखी जा रही है। इसका खाका भी विभाग ने तैयार किया था और उसे एसडीएम एमके मालवीय को सौंपा। खाका में बस स्टैंड, मऊचुंगी, संतोषी माता, डां अंबेडकर चौक, वर्मा पेट्रोल पंप के पास, सुधा सागर रोड और झिरकी बगिया मंदिर के पास रेत का अच्छा खासा स्टाक होना बताया गया है।
चार्ट के हिसाब से मौके पर सोमवार को एसडीएम एमएस मालवीय कार्रवाई करने के लिए पहुंचे। जैसे ही वे मऊंचुंगी के पास पहुंचे, उन्हें पूरी रेत गायब मिली, जिससे वे भी अचंभित रह गए कि आखिर रेत गायब कहां हो गई। आसपास दोनों अधिकारियों ने पूछताछ की, मगर किसी को भनक तक नहीं लगी।
बताया जाता है कि यहां पर रेत माफिया बड़े स्तर पर रेत का स्टाक करके रखते हैं। उनकी पहुंच लंबी होने की वजह से अधिकारी तक कार्रवाई नहीं कर पाते हैं। जैसे-तैसे ही कोई अधिकारी मौके पर कार्रवाई करने के लिए जाता है, उससे पहले ही माफियों को भनक लग जाती है और वे पहले से रेत गायब कर देते हैं। यहां पर भी कुछ ऐसा ही हुआ। सोमवार को कार्रवाई होने वाली है, इसकी सूचना देर रात माफियों को मिल गई थी, इसलिए उन्होंने सुबह ४ बजे से ही रेत उठवाना शुरु कर दी थी और सुबह ९ बजे तक मौके पर नाममात्र की रेत मिली। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक माफियों ने जतारा-टीकमगढ़ मार्ग पर लक्ष्मनपुरा में भारी संख्या में पिछले दो दिन में रेत का स्टाक किया गया है।