• Hindi News
  • नकल प्रकरण की जांच ठंडे बस्ते में

नकल प्रकरण की जांच ठंडे बस्ते में

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर संवाददाता.शिवपुरी
हाईस्कूल और हायर सेकंडरी की बोर्ड परीक्षाओं के दौरान जिस तरह नकल माफिया ने मनमर्जी की, उसके आगे प्रशासन बोना साबित हुआ है। फिजिकल केन्द्र पर 20 मार्च को हाईस्कूल की विज्ञान की परीक्षा में दूसरे छात्र के नाम पर परीक्षा देते हुए एक परीक्षार्थी पकड़ा गया। इसके दूसरे साथी को पुलिस व शिक्षा विभाग पकडऩे में नाकाम रहा है। इस परीक्षार्थी के किन नकल माफिया से ताल्लुक रहे, इसको लेकर प्रशासन गंभीरता नहीं दिखा रहा है। पूरे मामले को जांच के नाम पर ठंडे बस्ते में डाल दिया गया है। फिजिकल केन्द्र पर राहुल लोधी के नाम पर फर्जी तौर पर परीक्षा देते पकड़ा गया छात्र धीरज कुमार झा ((परिवर्तित नाम)) के संबंध किन-किन नकल माफिया से रहे हैं, इस बिंदु पर कोई जांच नहीं हो रही है। शिक्षा विभाग के अधिकारी इस मामले में पुलिस में चल रही जांच के भरोसे पर ही हैं, जबकि पुलिस में मामला कायम कर आगे की जांच में कोई रुचि नहीं दिखाई जा रही है।
नकल माफिया पर संदेह : जिस धीरज कुमार झा ((परिवर्तित नाम)) को पकड़ा गया है, उसने 5 हजार रुपए में सौदा करके दूसरे छात्र राहुल के नाम पर दसवीं का पेपर देने का सौदा किया था, जबकि धीरज इसी केन्द्र पर 12 के पेपर भी दे रहा था। सूत्र बताते हैं कि इस पूरे खेल में पिछोर और खोड के कुछ नकल माफिया का हाथ है, जिसमें निजी स्कूल के संचालक भी शामिल हैं। यह निजी स्कूल संचालक ही इस तरह के खेल को अंजाम देते हैं, जिसमें दूसरे छात्र के नाम पर फर्जी परीक्षार्थी से परीक्षा दिलवाई जाती है, इस खेल में 25 से 30 हजार रुपए तक प्रत्येक छात्र से पास कराने का ठेका होता है।
एक जमानत पर दूसरे का पता नहीं : फर्जी परीक्षा देते पकड़े गए नाबालिग धीरज कुमार झा की किशोर न्याय बोर्ड से जमानत हो चुकी है। पुलिस ने बताया है कि जब उसकी जमानत नहीं हुई थी तब उसे गुना बाल सम्प्रेषण गृह भेजा गया था। अब वह जमानत पर है। इसके अलावा दूसरा छात्र राहुल भी कहां इसके बारे में पुलिस कोई खोजबीन नहीं कर रही है।




शिवपुरी - फिजिकल चौकी पर बैठा फर्जी परीक्षार्थी ((फाइल फोटो))

जल्द ही जांच में तेजी लाएंगे

॥ फरार दूसरे छात्र का अभी कोई सुराग नहीं है। उसके पता करने की कोशिश चल रही है। पकड़ा गया आरोपी धीरज ((परिवर्तित नाम)) नाबालिग था तो उसकी जमानत हो चुकी है। मेरे परिवार में गमी हो गई थी इसलिए मैं खोड व पिछोर नहीं जा पाया। इस समय चुनाव में व्यस्तता है कुछ दिनों बाद इसी केस पर ध्यान देंगे। ॥

शिवराज भदौरिया, एएसआई एवं जांच अधिकारी, फिजिकल चौकी

पुलिस को करना है जांच

॥ हमने पूरा मामला पुलिस को सौंप दिया है। पुलिस ही इस बारे में कोई खोजबीन करेगी। इसके अलावा हमने खोड के उस प्राइवेट स्कूल को नोटिस दिया है जिसमें यह छात्र पंजीबद्ध था। अभी स्कूल संचालक द्वारा नोटिस का जवाब नहीं दिया गया है। जवाब आ जाए फिर इस बारे में आगे कार्रवाई करेंगे। ॥

वीएस देशलहरा,जिला शिक्षा अधिकारी शिवपुरी

फर्जी नाम से परीक्षा दे रहा परीक्षार्थी और उसके साथियों का पता लगाने के मामले में जांच अब तक सिफर।