• Hindi News
  • अमेरिका में तीन विकल्पों पर चर्चा

अमेरिका में तीन विकल्पों पर चर्चा

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अमेरिका में भारतीय दूतावास के प्रवक्ता श्रीधरन मधुसूदनन ने कहा है कि देवयानी आग्रह अनुचित नहीं है। उन्होंने कहा कि यह मामला घरेलू कर्मचारी से दुव्र्यवहार का नहीं है। बल्कि आव्रजन मामले में अमेरिकी कानून के जरिए खिलवाड़ का है। भारत केवल देवयानी के खिलाफ मामला वापस लेने की मांग ही कर नहीं रहा है बल्कि अमेरिका से माफी मांगने को भी कह रहा है।

इतालवी नौसैनिक विशेष कोर्ट में

होंगे पेश

नई दिल्ली-!- केरल तट के पास 2012 में दो मछुआरों की हत्या के आरोपी दो इतालवी नौसैनिक बुधवार को दिल्ली की विशेष कोर्ट में पेश होंगे। राष्ट्रीय जांच एजेंसी ((एनआईए)) ने एडिशनल सेशंस जज धर्मेश शर्मा की कोर्ट में दोनों की हिरासत के लिए अनुरोध किया है। कोर्ट इस पर ८ जनवरी को सुनवाई करेगी। इस मामले में दोनों आरोपियों को कोर्ट में पेश होने का नोटिस भेजा गया है।



ञ्च आरोप पत्र दायर करने से पहले देवयानी को पूर्ण राजनयिक छूट दी जाए। इससे दोनों देशों के संबंधों में तनाव दूर होगा। भारतवंशी अमेरिकी वकील रवि बतरा इससे सहमत हैं।

ञ्च आरोप पत्र लगाए जाने के बाद संयुक्तराष्ट्र में तबादला व पूर्ण राजनयिक छूट मानी जाए। इससे तनाव बरकरार रहेगा। लेकिन अमेरिका अपनी बात मनवा लेगा।

ञ्च अमेरिका देवयानी का संयुक्तराष्ट्र में तबादला मानने से इनकार कर दे। यह दलील भारत द्वारा जवाबी कार्रवाई से नाराज अमेरिकी लोग दे रहे हैं। वे भारत को सबक सिखाना चाहते हैं। ऐसा करने से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अमेरिका की किरकिरी हो सकती है।





अमेरिकी कानून के जरिए हो रहा है खिलवाड़ : भारतीय प्रवक्ता