• Hindi News
  • एक लाख से ज्यादा विद्यार्थियों को नहीं मिली स्कॉलरशिप

एक लाख से ज्यादा विद्यार्थियों को नहीं मिली स्कॉलरशिप

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सिटी रिपोर्टर - नीमच
समग्र सामाजिक सुरक्षा मिशन ((ट्रिपल एसएम)) के तहत बन रहे चाइल्ड आईडी की प्रक्रिया इतनी धीमी है कि जिले के एक लाख से ज्यादा विद्यार्थियों को इस साल स्कॉलरशिप नहीं मिल पाई। अब तक २६ हजार विद्यार्थियों को ही छात्रवृत्ति मिली।
इस बार शासन ने समेकित छात्रवृत्ति योजना के तहत सभी विभागों से मिलने वाली स्कॉलरशिप को ट्रिपल एसएम से जोड़ दिया। योजना के तहत हर विद्यार्थी को चाइल्ड आईडी लेना जरूरी है। आईडी नंबर जारी होने पर ही स्कॉलरशिप संबंधित विद्यार्थी के खाते में जमा होगी। छह महीने से समेकित छात्रवृत्ति योजना के तहत चाइल्ड आईडी बनाने का काम चल रहा है। आईडी नंबर नहीं मिलने के कारण पहली से १२वीं तक के एक लाख ५ हजार से ज्यादा विद्यार्थियों को इस साल की स्कॉलरशिप नहीं मिल पाई। शिक्षा विभाग के पोर्टल पर अब तक ८१ हजार विद्यार्थियों की ऑनलाइन एंट्री हो चुकी है। इनमें से केवल २६ हजार को चाइल्ड आईडी नंबर मिले। इसके आधार पर इन विद्यार्थियों के खाते में स्कॉलरशिप की राशि जारी कर दी गई। शेष विद्यार्थियों के नाम की एंट्री पोर्टल पर
नहीं हुई या नंबर नहीं मिले। ऐसे में छात्रवृत्ति नहीं मिली।




क्या है आईडी

इसमें विद्यार्थी, उनके अभिभावक, गांव व स्कूल के नाम के अलावा जाति, बैंक खाता का नंबर आदि जानकारी रहती है। यह जानकारी हासिल करने की जिम्मेदारी संबंधित नगर निकाय और पंचायतों को दी

गई।



गड़बड़ी भी होती है

एंट्री के दौरान विद्यार्थी या अभिभावकों के नाम गलत दर्ज होने से गड़बड़ी हो रही है। जैसे कि बच्चे या उनके अभिभावकों का घरेलू नाम दर्ज करने, स्पेलिंग में गड़बड़ी हो या बैंक खाते, जाति आदि में गड़बड़ी से भी परेशानी होती है।

ऐसे होती है एंट्री

एंट्री के लिए जनशिक्षा केंद्र प्रभारी एंट्री का कार्य करा रहा है। एसएसडीपीओ से बीआरसी स्तर पर एंट्री पहुंचती है। बीआरसी द्वारा लॉक करने पर जिला शिक्षा अधिकारी ((डीडीओ)) पर एंट्री आती है। डीडीओ द्वारा बिल बनाकर कोषालय में प्रस्तुत किया जाता है। फिर संबंधित विद्यार्थी के खातों में सीधे समेकित छात्रवृत्ति योजना की राशि जारी की जाती है।



इन विभागों से मिलती हंै स्कॉलरशिप

स्कूल शिक्षा विभाग, अनुसूचित जाति कल्याण विभाग, आदिम जाति कल्याण विभाग, विमुक्त-घुमक्कड एवं अर्ध घुमक्कड़ जनजाति कल्याण विभाग, मप्र पिछड़ा व अल्पसंख्यक विभाग, श्रम कल्याण विभाग, कृषि विभाग, सामाजिक न्याय विभाग, नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग शामिल है।



सीधे खाते में पैसा

छात्रवृत्ति में गड़बडिय़ां रोकने के लिए यह व्यवस्था लागू की गई। एक विद्यार्थी को एक ही योजना की स्कॉलरशिप मिले। इसके लिए समेकित छात्रवृत्ति योजना शुरू की गई। इस योजना को ट्रिपल एसएम जोड़ा गया। इसमें हर विद्यार्थी को चाइल्ड आईडी नंबर मिलेगा। बैंक एकाउंट खोला जाएगा। आईडी नंबर के आधार पर विद्यार्थियों की स्कॉलरशिप उनके खातों में जमा हो जाएगी।



जल्द बंटेगी स्कॉलरशिप

॥ट्रिपल एसएम का कार्य चल रहा है। जल्द ही पूरा कर लिया जाएगा। किसी भी विद्यार्थी की स्कॉलरशिप लेप्स नहीं होगी। इसके लिए जनशिक्षकों की ड्यूटी लगाई है। जल्द ही उनके खातों में जमा करा देंगे।

जीएस मकोड़े, जिला शिक्षा अधिकारी, नीमच

स्कॉलरशिप

देने वाले विभाग



योजनाएं

३५

पात्र विद्यार्थी

१३१३७१

चाइल्ड आईडी मिले

८१०६०

स्कॉलरशिप मिली २६०७५

भुगतान राशि

११०७५३२५



जिले में स्कूलों की संख्या

स्कूल प्रावि मावि हाई स्कूल हासे कुल

सरकारी ८७३ ३७३ ६६ ७४ १२४६

निजी ११० २२५ १९ १८ ५१२

कुल ९८३ ५९८ ८५ ९२ १७५८