• Hindi News
  • पारा गिरने से बढ़ा फसलों पर खतरा

पारा गिरने से बढ़ा फसलों पर खतरा

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कार्यालय संवाददाता-!-रायसेन
आसमान पर छाए बादलों के छंटने और मावठा गिरने के बाद अब घना कोहरा छाने लगा है। पारा भी लगातार गिरता जा रहा है। इससे ठंड ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है। आने वाले दिनों में तापमान में और गिरावट आने की संभावना जताई जा रही है। स्कूली छात्र-छात्राएं और छोटे बच्चे कड़कड़ाती ठंड में स्कूल जाने मजबूर हैं।
रविवार को हुई बारिश का असर सोमवार से दिखने लगा था। सोमवार और मंगलवार की रात में कंपकंपा देने वाली ठंड से लोगों को दो-चार होना पड़ा। मंगलवार को दिन भर सर्द हवाएं चलती रहीं। सुबह हल्का कोहरा भी रहा। धूप निकलने के बाद भी लोगों को ठंड का अहसास होता रहा। दिन भर लोग गर्म कपड़े पहने नजर आए।
आसमान साफ होते ही तापमान में गिरावट आई है। अधिकतम तापमान २२ डिग्री और न्यूनतम तापमान ११ डिग्री रिकॉर्ड किया गया। किसानों का कहना है कि अब यदि न्यूनतम तापमान इसी तरह गिरता गया तो फसलों में पाला पडऩे का खतरा है। न्यूनतम तापमान जब 3 डिग्री सेल्सियस या उससे नीचे जाएगा तो पाला पडऩे की संभावना अधिक हो जाती है। यदि पाला पड़ता है तो फसलों को काफी नुकसान होगा। उल्लेखनीय है कि पिछले साल भी पाला पड़ा था जिससे चना सहित अन्य सब्जियों की फसलों को नुकसान हुआ था।
फसलों को बचाने के लिए करें उपाय
मौसम वैज्ञानिक डॉ. एसएस तोमर ने बताया कि दिन और रात के तापमान में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है। यह गिरावट आने वाले दिनों मेें भी जारी रहेगी, जिससे फसलों को नुकसान पहुंचने की आशंका है। फसलों को कोहरे से बचाने के लिए किसान कुछ उपाय कर सकते हैं। यदि पाला पड़ता है तो किसान सल्फर पावडर 80 प्रतिशत डब्ल्यूपी का इस्तेमाल कर सकते हैं। एक किग्रा के पैकेट को 7 लीटर पानी में मिलाकर एक एकड़ रकबे में इसका छिड़काव करें।