--Advertisement--

आगर बना प्रदेश का ५१वां जिला

Dabra News - आगर बना प्रदेश का ५१वां जिलाभास्कर न्यूज -!- आगर मालवा आगर-मालवा को शुक्रवार को जिले का दर्जा मिल गया। हजारों...

Dainik Bhaskar

Aug 17, 2013, 04:24 AM IST
आगर बना प्रदेश का ५१वां जिला
आगर बना प्रदेश का ५१वां जिला
भास्कर न्यूज -!- आगर मालवा
आगर-मालवा को शुक्रवार को जिले का दर्जा मिल गया। हजारों लोगों की मौजूदगी में प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने आगर की धरती पर इसकी विधिवत घोषणा की तो सारा वातावरण हर्ष से भर गया। शाजापुर जिले की ९ में से ४ तहसीलों को अलग कर आगर जिला बनाया गया है। वर्षों से क्षेत्र के रहवासी इसकी मांग कर रहे थे। अब आगर उ"ौन संभाग का ७वां और प्रदेश का ५१वां जिला बन गया है। वर्षों पुरानी मन्नत पूरी होने पर इलाके में जश्न का माहौल है और लोग एक-दूसरे को बधाइयां देकर विकास की उम्मीदों से भरे हुए है। आगर-मालवा और आसपास के रहवासियों को आजादी की सालगिरह पर नए जिले की सौगात मिली है। शुक्रवार तड़के से ही नए जिला मुख्यालय में उल्लास और गहमा-गहमी थी।

नए प्रशासनिक कार्यालयों की साज-स"ाा के बीच सभी को मुख्यमंत्री के आने का इंतजार था। दोपहर आगर पहुंचे मुख्यमंत्री ने मंडी परिसर में आयोजित समारोह में आगर को जिला बनाने की घोषणा की और कहा कि सरकार ने अपना वादा निभाया है। भरोसा है इससे इलाके के विकास को नए पंख लगेंगे। जनप्रतिनिधियों की मौजूदगी में मुख्यमंत्री ने आगर के नवनियुक्त कलेक्टर डी.डी. अग्रवाल और एसपी राजाराम परिहार का भी उपस्थितों से परिचय कराया। दोनों के प्रशासनिक कार्यालय भी शुक्रवार से शुरू हो गए। आगर के प्रभारी मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा ही होंगे।



वे शाजापुर के पहले से ही प्रभारी है।



नर्मदा आएगी आगर और शाजापुर
नर्मदा का जल आगर और शाजापुर में बहने वाली नदियों में मिलाया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कालीसिंध, पार्वती, लखुंदर सहित नेवज को नर्मदा से जोड़ा जाएगा। इससे दोनों जिलों का विकास होगा और सिंचाई के लिए पर्याप्त पानी मिलेगा।
जिला बनाने के बाद मांगा आशीर्वाद
मुख्यमंत्री चौहान ने आगर पहुंचकर सबसे पहले आगर-मालवा को जिला घोषित किया। कार्यक्रम के बाद वे वाहन से शहर की सड़कों पर घूमे। लोगों का अभिवादन स्वीकारते हुए मुख्यमंत्री ने आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा को जिताने का आशीर्वाद मांगा।
भास्कर ने चलाया था अभियान
आगर-मालवा को जिले का दर्जा दिलाने के लिए दैनिक भास्कर ने मुख्यमंत्री की घोषणा करने बाद से लगातार पांच सालों तक अभियान चलाया। २००८ से लेकर अब तक भास्कर ने अभियान के माध्यम से संस्थाओं, संगठनों सहित लोगों को जोड़ा और मांग को सरकार तक पहुंचाया जाता रहा। अंतत: मुख्यमंत्री ने भास्कर की इस पहल को गंभीरता से लिया और आगर को जिला घोषित किया।
१९०४ तक जिला था आगर
आगर अंग्रेजों के राज में मालवा का महत्वपूर्ण केंद्र था, यहां छावनी भी थी। आगर १८६७ से १९०४ तक जिला हुआ करता था, लेकिन बाद में जिले का दर्जा समाप्त कर दिया गया। आजादी के समय भी आगर को जिला बनाए जाने की मांग उठी, लेकिन नजर अंदाज किया जाता रहा। १०९ साल बाद आगर-मालवा को जिला बनाकर मानो इतिहास दोहराया गया।
दूरी के साथ कम होंगी परेशानियां भी
आगर के जिला बनने से सुसनेर, सोयत सहित बड़ौद क्षेत्र के लोगों को अब जिला मुख्यालय के लिए लंबा सफर नहीं करना पड़ेगा। अब तक सोयतकलां से शाजापुर जिला मुख्यालय पहुंचने के लिए दूरी १३० किलोमीटर थी, जो अब घटकर ६० किलोमीटर रह गई। इसी तरह डोंगरगांव और बड़ौद क्षेत्र के ग्रामीणों को अब समय और धन की बचत होगी। आगर के जिला बनने से इस क्षेत्र के ग्रामीणों की समस्या हल हो सकेंगी। आरटीओ कार्यालय खुलने पर ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने, खाद्य एवं आपूर्ति कार्यालय से लाइसेंस लेने के लिए व्यापारियों को शाजापुर नहीं जाना पड़ेगा। स्कूल और स्वास्थ्य सेवाओं में अनियमितताओं की शिकायतें दूर हो जाएंगी।
यह रहेंगी चुनौतियां
आगर-मालवा नया जिला तो बन गया, लेकिन विभागीय अफसर और कर्मचारियों की तैनाती नहीं होने तक जिलेवासियों को तमाम परेशानियों से जूझना पड़ेगा। जिला पंचायत, स्वास्थ्य, परिवहन कार्यालय, शिक्षा विभाग, उद्योग विभाग सहित अन्य कार्यालय कब तक शुरू होंगे, इस संबंध में कोई स्थिति स्पष्ट नहीं है।
कार्यक्रम के दौरान जिले के प्रभारी मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा, रा'यसभा सदस्य थावरचंद गेहलोत, प्रभात झा, ऊर्जा विकास निगम के अध्यक्ष विजेंद्रसिंह सिसौदिया, विधायक लालजीराम मालवीय, जसवतसिंह हाड़ा, बाबूलाल वर्मा, संतोष जोशी, माखनसिंह, पूर्व सांसद डॉ. सत्यनारायण जटिया, योजना आयोग के उपाध्यक्ष बाबूलाल जैन, संभागायुक्त अरुण पांडेय, आईजी वी. मधुकुमार उपस्थित थे।
फैक्ट फाइल
जिला- आगर-मालवा
कृषि रकबा- २७९ हैक्टेयर
संस्कृति- मालवा, हड़ौती, सौंधवाड़ी
ग्राम- ५०३
पटवारी हल्के- १४१
परिधि- ६०-७० किमी
तहसील- आगर, बड़ौद, सुसनेर, नलखेड़ा
जनसंख्या- २ लाख ७९ हजार
पुलिस थाना- आगर, बड़ौद, सुसनेर, नलखेड़ा, कानड़, सोयतकलां
विधानसभा- आगर मालवा और सुसनेर
अनुभाग- आगर मालवा और सुसनेर
X
आगर बना प्रदेश का ५१वां जिला
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..