• Hindi News
  • एक ही आकार की बोरियों का वजन अलग अलग

एक ही आकार की बोरियों का वजन अलग-अलग

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर संवाददाता - देवास
शिप्रा स्थित सेवा सहकारी संस्था का आकस्मिक निरीक्षण करने पहुंचे एसडीएम धीरज श्रीवास्तव को कई गड़बडिय़ां मिली। इस पर एसडीएमने नोटिस जारी कर संस्था को तीन दिन का समय देकर कहा जवाब प्रस्तुत नहीं करने पर दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी। संस्था को भंग भी किया जा सकता है। एसडीएम श्रीवास्तव ने बताया निरीक्षण के दौरान पाया गया कि प्लास्टिक बोरी का वजन 200 ग्राम काटा जा रहा है जबकि शासन ने 140 ग्राम वजन काटने के निर्देश दिए हैं। 50 किलो के बारदान वाली अन्य बोरी का वजन भी किया गया तो अलग-अलग वजन मिला। किसी का वजन 50 किलो 200 ग्राम, 50 किलो 400 ग्राम और 49 किलो मिला। ऐसे में एसडीएम ने तौल कांटे में छेड़छाड़ की आशंका जताई।




1378 बारदान कम मिले

चालू वर्ष में 37500 बारदान संस्था को दिए गए थे और अब तक 8936 क्विंटल खरीदी की गई। इस मान से 17 हजार 872 बारदानों का उपयोग होना था और शेष बारदानों की संख्या 19 हजार 682 होना चाहिए थी लेकिन यहां 18 हजार 250 बारदान मिले। यानि 1378 बारदान कम मिले। यह भी पाया कि पिछले वर्ष के यहां तीन गठान बारदान बचे हुए हैं। जबकि नियमानुसार बारदान अनुपयोगी होने पर उन्हें वापस जमा करवाया जाना चाहिए।

अधिक नमी का गेहूं

खरीदा जा रहा था

एसडीएम ने बताया केंद्र पर शाम 7 बजे गेहंू की ट्रॉली खरीदी जा रही थी। यहां 16 प्रतिशत नमी का गेहूं खरीदा जा रहा था जबकि शासन ने 12 प्रतिशत तक नमी वाला गेहूं खरीदने के निर्देश दिए हैं। पूरे निरीक्षण के दौरान वीडियोग्राफी भी करवाई और पंचनामा भी बनवाया है।