• Hindi News
  • धोखाधड़ी के मामले में आरोपी को 5 साल की सजा, फरियादी पर भी चलेगा केस

धोखाधड़ी के मामले में आरोपी को 5 साल की सजा, फरियादी पर भी चलेगा केस

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नगर संवाददाता - सागर
फर्जी दस्तावेज तैयार कर धोखाधड़ी से ट्रैक्टर बेचने के मामले में आरोपी को पांच साल के सश्रम कारावास की सजा सुनाई गई। इसी मामले में मिथ्या साक्ष्य देने पर फरियादी पर भी मामला चलाने का आदेश दिया गया। यह फैसला शुक्रवार को प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश हृदयेश ने सुनाया। अतिरिक्त लोक अभियोजक गोविंद सिंह ठाकुर के मुताबिक महाराजपुर थाने के ग्राम सुना में 6 दिसंबर 2009 को फरियादी पुरुषोत्तम आदिवासी के घर डोभी के पंचायत सचिव सुरेश कुर्मी के साथ ग्राम छिंदली निवासी आरोपी राकेश तिवारी आया था। उसने पुरुषोत्तम के ट्रैक्टर का 6 हजार रुपए मासिक किराया तय कर लिया। बदले में 3 चेक तथा करार का स्टांप देकर ट्रैक्टर अपने साथ ले गया। अगले माह फरियादी का लड़का आरोपी राकेश से किराया ले आया। इसके बाद कोई किराया नहीं दिया गया। कुछ दिन बाद राकेश, फरियादी के पास आया और ट्रैक्टर फोर लाइन से निकलवाने के बहाने स्टांप अपने साथ ले गया। बाद में पता चला कि राकेश एवं उसके भाई सोमेश ने ट्रैक्टर के दस्तावेजों की कूटरचना कर उसे बरौदा गांव के राजकुमार पटेल को बेच दिया। घटना की लिखित रिपोर्ट महाराजपुर थाने में की गई। पुलिस ने आरोपी राकेश तिवारी, सोमेश तिवारी एवं राजकुमार पटेल के खिलाफ मामला दर्ज कर न्यायालय में चालान पेश किया। न्यायालय ने आरोपी राकेश तिवारी को धारा अलग-अलग धाराओं में 1 वर्ष से लेकर 5 वर्ष के कारावास की सजा सुनाई। ये सभी सजाएं एक साथ चलेंगी। इसके अलावा 13 हजार रुपए के अर्थदंड से दंडित किया है। बाकी दो आरोपियों को साक्ष्य के अभाव में बरी कर दिया। फरियादी पुरुषोत्तम ने न्यायालय में अपने बयानों में लिखित रिपोर्ट एवं हस्ताक्षर करना स्वीकार किया, लेकिन आवेदन के विपरीत बयान देकर मिथ्या साक्ष्य प्रस्तुत करने पर न्यायालय ने फरियादी के खिलाफ अलग से एमजेसी दर्ज कर कार्रवाई करने का आदेश दिया है।