• Hindi News
  • मंदिर से जेवरात चुराने के आरोपी पुजारी को जेल भेजा

मंदिर से जेवरात चुराने के आरोपी पुजारी को जेल भेजा

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मझला घाटी बंडा स्थित वनदेवी मंदिर का मामला
नगर संवाददाता - सागर
प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश हृदयेश ने मंदिर से जेवरात चुराने वाले पुजारी की अपील खारिज करते हुए शुक्रवार को उसे जेल भेज दिया। पुजारी को बंडा न्यायालय ने तीन वर्ष की सजा सुनाई है। पुजारी ने सजा के विरुद्ध जिला न्यायालय में अपील दायर की थी। फैसले में न्यायाधीश ने तल्ख टिप्पणी की है। उन्होंने कहा है कि आरोपी ने मंदिर का पुजारी होते हुए मंदिर की संपत्ति को बेईमानी पूर्ण तरीके से मंदिर से हटाया है। पुजारी जो एक धार्मिक पद होता है। उस पद पर रहते हुए उसने लोगों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाई है। ऐसे व्यक्ति के प्रति किसी प्रकार की रियायत दिया जाना न्यायोचित नहीं होगा तथा इस प्रकार के कृत्य किए जाने वाले व्यक्तियों का उत्साह बढ़ेगा। इसके साथ ही लोगों का पुजारियों और धर्म के प्रति निष्ठा करने वालों से विश्वास उठेगा। अतिरिक्त लोक अभियोजक एमडी अवस्थी के मुताबिक बंडा की मझला घाटी स्थित वनदेवी माता मंदिर का पुजारी सत्यनारायण तिवारी 14 अगस्त 2012 को शाहगढ़ जाने की कहकर गया था। वह मंदिर में ही रहने वाले बाबूलाल की मोटरसाइकिल एवं मोबाइल भी साथ ले गया था। काफी दिन तक जब पुजारी वापस नहीं आया, तो बाबूलाल ने उसके भतीजे सुनील से पूछा। उसने बताया कि पुजारी ने उसे सागर छोड़ दिया था। 15 अगस्त को मंदिर के पूर्व पुजारी गोविंद बैरागी से मंदिर का ताला खुलवाया गया तो वहां रखे 3 मंगलसूत्र व चांदी की 3 चूड़ी गायब पाई गईं। बाद में उसके पास से चोरी गया सामान बरामद कर लिए गया। फरियादी की रिपोर्ट पर बंडा पुलिस ने मामला दर्ज कर न्यायालय में चालान पेश किया। बंडा न्यायालय ने पुजारी को धारा 408 में 3 वर्ष एवं धारा 406 में 1 वर्ष की सजा सुनाई। पुजारी ने इस फैसले के विरुद्ध जिला न्यायालय में अपील दायर की थी। यहां प्रथम सत्र न्यायाधीश ने उसकी अपील खारिज करते हुए जेल भेज दिया। पुजारी जैसीनगर थानांतर्गत ग्राम परासिया का रहने वाला है।



गायब पाई गईं। बाद में उसके पास से चोरी गया सामान बरामद कर लिए गया। फरियादी की रिपोर्ट पर बंडा पुलिस ने मामला दर्ज कर न्यायालय में चालान पेश किया। बंडा न्यायालय ने पुजारी को धारा 408 में 3 वर्ष एवं धारा 406 में 1 वर्ष की सजा सुनाई। पुजारी ने इस फैसले के विरुद्ध जिला न्यायालय में अपील दायर की थी। यहां प्रथम सत्र न्यायाधीश ने उसकी अपील खारिज करते हुए जेल भेज दिया। पुजारी जैसीनगर थानांतर्गत ग्राम परासिया का रहने वाला है।