• Hindi News
  • ट्रेडिशनल टेक्सटाइल को जरूरत अनुसार बनाना ही इंजीनियरों के लिए चुनौती

ट्रेडिशनल टेक्सटाइल को जरूरत अनुसार बनाना ही इंजीनियरों के लिए चुनौती

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जालंधर - एनआईटी के डिपार्टमेंट आफ टेक्सटाइल टेक्नोलॉजी की ओर से दो दिवसीय इंटरनेशनल सेमिनार करवाया गया। सेमिनार का विषय इमर्जिंग ट्रेंड इन ट्रेडिशनल एंड टेक्निकल टेक्सटाइल था। वक्ताओं की चर्चा में यह बात सामने आई कि आज ट्रेडिशनल टेक्सटाइल की डिमांड दिन प्रतिदिन बढ़ रही है लेकिन वह भी यूनीक, वैरायटी, चलने वाली, इन्वायरमेंट फ्रेंडली, स्वास्थ्य के लिए सेट और कम्फर्ट होना चाहिए। इन जरूरतों को पूरा करने वाली ट्रेडिशनल टेक्सटाइल को बनाना ही इंजीनियरों के लिए
चुनौती है।
आयोजक कमेटी के चेयरमैन डा. ए मुखोपाध्याय ने बताया कि संस्थानों को अपने रिसर्च जरूरत के हिसाब से करवानी चाहिए, जिससे समाज में रिसर्च का कोई फायदा मिल सके। हां रिसर्च के साथ- साथ यह भी ध्यान रखना चाहिए कि यदि लैब में रिसर्च सफल हो रहा है तो उसे इड्रस्टी के साथ टाइअप कर मार्केट में लाया जाए। पाकिस्तान से आए प्रो. नवाज ने कहा कि आजकल टेक्निकल टेक्सटाइल की डिमांड बढ़ रही है।