• Hindi News
  • ड्रग तस्करी में मजीठिया का नाम आने से खलबली

ड्रग तस्करी में मजीठिया का नाम आने से खलबली

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज-!- संगरूर
ड्रग तस्करी मामले में गिरफ्तार जगदीश सिंह भोला की ओर से मोहाली कोर्ट में ड्रग रैकेट का किंगपिन कैबिनेट मंत्री और यूथ अकाली दल के प्रधान विक्रम सिंह मजीठिया के नाम का खुलासा किए जाने के बाद राजनीति गलियारों में खलबली मच गई है। विरोधी पक्ष ने जहां इस मामले को गंभीरता से लिया है वहीं मजीठिया ब्रिगेड ((यूथ अकाली दल)) अपने प्रधान के समर्थन में उतर आई है।
मंगलवार को यूथ अकाली दल के राष्ट्रीय सीनियर उप प्रधान विनरजीत सिंह गोल्डी ने अपने साथियों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर विक्रमजीत सिंह मजीठिया पर लगाए गए सभी आरोप को बेबुनियाद बताया है।
गोल्डी का कहना है कि उप मुख्य मंत्री सुखबीर सिंह बादल व विक्रमजीत सिंह मजीठिया ने शुरू से ही नशा तस्करों के खिलाफ मुहिम चलाई हुई है। अकाली दल का मिशन रहा है कि पंजाब को पूरी तरह से नशामुक्त किया जाए। जिसके तहत पिछले समय में बड़े-बड़े नशा तस्कर सलाखों के पीछे पहुंचाए गए हैं। उन्होंने पंजाब प्रदेश कांग्रेस के प्रधान प्रताप सिंह बाजवा की ओर से मामले की जांच सीबीआई से करवाए जाने की मांग को बेतुका बताया। पंजाब पुलिस सभी कार्यों को बखूबी निभा रही है इसलिए मामले की जांच सीबीआई को देने का कोई तुक नहीं है। सीबीआई तो अभी तक देश के बड़े-बड़े घोटालों व 84 दंगों के आरोपियों को सजा तक नहीं दिला पाई है। मौके पर अमित अलीशेर, मनमीत अलीशेर, हरविंदर ठेकेदार आदि उपस्थित थे।
उधर कांग्रेस नेताओं ने मामले को काफी गंभीर करार दिया है। यूथ कांग्रेस के उप प्रधान रौकी बांसल का कहना है कि भोला की ओर से किए गए खुलासे को गंभीरता से लिया जाना बेहद जरूरी है।
विक्रमजीत सिंह मजीठिया कैबिनेट मंत्री के साथ-साथ यूथ अकाली दल के प्रधान की जिम्मेवारी भी निभा रहे हैं। एक साजिश के तहत पंजाब सरकार नशे की आड़ में प्रदेश के नौजवानों को कमजोर कर रही है। भोला के खुलासे से साफ हो गया है कि नशों को पंजाब से दूर करने की बात करने वाली सरकार के मंत्री ही नशा तस्करी को अंजाम दे रहे हैं। पूरे मामले की जांच सीबीआई से करवाई जाना बेहद जरूरी है ताकि सच्चाई को लोगों के सामने लाया जा सके।