• Hindi News
  • पिता पर हाथ उठाया था, पछतावे में फंदा लगाया

पिता पर हाथ उठाया था, पछतावे में फंदा लगाया

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज -!- करतारपुर
‘डैडी-जी मैनूं माफ कर देओ, मैं तां उस दिन दा ही मर गया सी जिस दिन मैं तुहाडे ते हत्थ चुकिया सी।’ मोहल्ला भाई भारा के 25 वर्षीय धरमिंदर ने पिता के नाम छोड़े गए आखिरी खत में उपरोक्त बातें लिखी हैं। धरमिंदर ने मंगलवार सुबह ही फंदा लगाकर जान दे दी। उसने अपनी मौत का कारण गरीबी व मां-बाप को दुखी करना बताया है। धरमिंदर के भाई सन्नी ने बताया कि मंगलवार सुबह जब वह धरमिंदर को उठाने के लिए ऊपर चुब्बारे पर बने कमरे में उठाने गया तो सामने पंखे से धरमिंदर का शव लटकते दिखा। फौरन पिता गुरदयाल सिंह को सूचित किया। थोड़ी देर में ही पूरा मोहल्ला इकट्ठा हो गया। बाद में पुलिस बुलाई गई। करतारपुर पुलिस ने बताया कि मृतक से एक सुसाइड नोट मिला है जिसके आधार पर 174 की कार्रवाई हुई है। फिलहाल शव को पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल भेज दिया गया। वहीं, धरमिंदर के पिता गुरदयाल सिंह का कहना है कि उसे बेटा ऐसा कदम उठा लेगा, बारे में अंदेशा नहीं था। कुछ दिन पहले झगड़ा हुआ था तब से बेटा कटा-कटा सा रहता था। धरमिंदर की मां काहलवां रहती है। घटना के समय वह घर से बाहर थे।