• Hindi News
  • ‘बायो टॉयलेट’ से रेलवे ट्रैक पर गंदगी से मिलेगी निजात : जीएम

‘बायो टॉयलेट’ से रेलवे ट्रैक पर गंदगी से मिलेगी निजात : जीएम

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अजमेर। उत्तर-पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक आरसी अग्रवाल ने कहा कि जल्द ही ट्रेनों में ‘बायो टॉयलेट’ लगेंगे। 5500 नए कोच में यह लग चुके हैं, पुराने कोच में बदलने का कार्य जल्द शुरू होगा। बायो टायलेट से रेलवे ट्रैक पर होने वाली गंदगी से निजात मिलेगा। अग्रवाल मंगलवार को एनडब्ल्यूआरयू की ओर से आयोजित रेलकर्मियों के प्रतिभावान बच्चों के सम्मान समारोह में शिरकत करने पहुंचे थे। इस मौके पर उन्होंने पर्यवेक्षक प्रशिक्षण केंद्र ((एसटीसी)) में बायो टॉयलेट के मॉडल का उद्घाटन भी किया।
अग्रवाल ने कहा कि तोपदड़ा क्षेत्र से यात्रियों के नए प्रवेश-निकास की अनुमति नहीं दी जाएगी। इसके लिए वहां पर्याप्त जगह नहीं है। यात्रियों की सुविधा के लिए मदार रेलवे स्टेशन पर बुकिंग काउंटर खोले जाएंगे। अजमेर रेलवे स्टेशन को ए-क्लास श्रेणी में रखा गया है, जिसके तहत यहां पर मल्टी लेवल पार्किंग सुविधा दी जाएगी। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि वल्र्ड क्लास रेलवे स्टेशन के तर्ज पर ही अजमेर रेलवे स्टेशन का आधुनिकीकरण किया जा रहा है।
अजमेर मंडल के कदम अब इलेक्ट्रिफिकेशन की ओर हैं। रेवाड़ी-अलवर रूट पर यह कार्य शुरु हो चुका है, जबकि अलवर-पालनपुर की सैद्धांतिक स्वीकृति मिल चुकी है। जीएम ने बायो टॉयलेट के उद्घाटन के दौरान कैरिज वर्कशॉप और पर्यवेक्षक प्रशिक्षण केंद्र की टीम संयुक्त रूप से 25 हजार रुपए का पुरस्कार देने की घोषणा की है। बायो टॉयलेट कैरिज और एसटीसी ने मिलकर बनाया है। इस मौके पर मुख्य परिचालन प्रबंधक दीपक दवे, डीआरएम मनोज सेठ, मुख्य कारखाना प्रबंधक सुधीर गुप्ता, एडीआरएम आरके मूंदड़ा, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. मूल नारायण सहित अन्य रेलवे के अन्य आला अधिकारी भी मौजूद थे।